"वनडे क्रिकेट धीमी मौत मर रहा है"- ऑस्ट्रेलियाई ओपनर का बड़ा बयान 

उस्मान ख्वाजा ने वनडे क्रिकेट को लेकर बड़ा बयान दिया है
उस्मान ख्वाजा ने वनडे क्रिकेट को लेकर बड़ा बयान दिया है

हाल ही में वनडे फॉर्मेट के भविष्य को लेकर काफी ज्यादा चर्चा हो रही है और कई दिग्गजों का मानना है कि यह फॉर्मेट धीरे-धीरे समाप्ति की ओर बढ़ रहा है। कुछ ऐसा ही ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट ओपनर उस्मान ख्वाजा (Usman Khawaja) का भी मानना है। उनका मानना है कि 50 ओवर फॉर्मेट धीरे-धीरे खत्म होने की कगार पर है।

इंग्लैंड के 31 वर्षीय ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने वनडे क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। उनके संन्यास के बाद से ही यह बहस तेज हो गई है कि क्या वनडे फॉर्मेट का भविष्य खतरे में हैं। स्टोक्स ने कहा था कि उनके लिए वर्कलोड मैनेज करना मुश्किल है और उन्होंने कहा था कि खिलाड़ियों को कार की तरह ट्रीट नहीं किया जा सकता है।

बहस पर अपनी राय देते हुए, ख्वाजा ने कहा कि पैक्ड अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर में किसी चीज की त्यागना पड़ेगा और यह वनडे क्रिकेट है।

ईएसपीएन क्रिकइंफो ने बाएं हाथ के बल्लेबाज के हवाले से कहा,

मेरी अपनी निजी राय - मुझे पता है कि कुछ लोग बहुत समान हैं, आपके पास टेस्ट क्रिकेट है, जो सर्वोपरि है, आपके पास टी 20 क्रिकेट है, जिसमें स्पष्ट रूप से दुनिया भर में लीग हैं, महान मनोरंजन, हर कोई इसे प्यार करता है, और फिर वनडे क्रिकेट है।
मुझे लगता है कि शायद यह उन सभी में से तीसरे स्थान पर है। मुझे लगता है कि व्यक्तिगत रूप से वनडे क्रिकेट धीमी मौत मर रहा है। अभी भी वर्ल्ड कप है, जो मुझे लगता है कि वास्तव में मजेदार है और यह देखना सुखद है, लेकिन इसके अलावा, यहां तक कि व्यक्तिगत रूप से, मैं खुद वनडे क्रिकेट के लिए उतनी रूचि नहीं रखता।

टेस्ट क्रिकेट अभी भी मजबूत है - उस्मान ख्वाजा

ख्वाजा ने टेस्ट क्रिकेट के भविष्य को लेकर आश्वस्त हैं। उनके मुताबिक इस फॉर्मेट को कोई खतरा नहीं है। उनका मानना है कि टेस्ट और टी20 क्रिकेट ही आगे बरकरार रह सकते हैं। उन्होंने कहा,

जिन लोगों से मैं बात करता हूं उनमें से अधिकांश अब भी टेस्ट क्रिकेट को पसंद करते हैं।'' उन्होंने कहा, ''यह मेरा पसंदीदा प्रारूप है। सोचता हूँ कि टेस्ट क्रिकेट में अभी भी बहुत मजबूत उपस्थिति है इसलिए वास्तव में इसे कहीं भी जाते हुए नहीं देख रहा हूँ। सोचें कि [टेस्ट और टी20] दोनों को आसानी से संतुलित किया जा सकता है, लेकिन फिर आप खुद से पूछें कि वनडे क्रिकेट क्या देता है।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar