Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 कारण जिसके चलते AFC कप के फाइनल में विजेता बन सकता है बेंगलुरु FC

CONTRIBUTOR
Modified 22 Oct 2016, 14:00 IST
Advertisement

बेंगलुरु एफसी ने दारुल ताजिम क्लब को सेमीफाइनल 4-2 के अंतर से हराकर कर एएफसी कप फुटबॉल टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया है। बेंगलुरु एफसी इस जीत के एएफसी कप के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय टीम बन गयी है और इस जीत की वजह कप्तान सुनील छेत्री को कहा जाए तो गलत नहीं होगा , जिन्होंने दोनों हाफ में एक-एक गोल दागकर विपक्षी टीम को बैकफुट ला खड़ा किया , छेत्री ने 41 वें मिनट अपना पहला और गोल 67 वें मिनट में दूसरा गोल किया। बेंगलुरु ने टूर्नामेंट के दूसरे सेमीफाइनल के दूसरे चरण के घरेलू मुकाबले को 3-1 से जीता । इससे पहले बेंगलुरु ने मलेशियाई क्लब की जमीन पर पहला चरण 1-1 से ड्रॉ खेला था। इस तरह भारतीय क्लब ने सेमीफाइनल मुकाबला कुल 4-2 के अंतर से जीत लिया। अब इंतजार फाइनल मुकाबले का है जो पांच नवंबर को खेला जाएगा। इस मुकाबले में बेंगलुरु के सामने इराक के अल कुआवा अल जाविया क्लब की चुनौती होगी, जिसने पहले सेमीफाइनल में लेबनान के अल अहत क्लब को 3-2 के अंतर से हराया था । यहां हम उन पांच चीजों की बात करेंगे जिनकी वजह से बेंगलुरु एफसी एएफसी कप जीत सकता है :


#1 पेशेवर रवैया जो इससे पहले भारतीय फुटबॉल के इतिहास में नहीं दिखा

parth-sajjan-jindal-1476940178-800

यूं तो बेंगलुरु एफसी क्लब ज्यादा पुराना नहीं है ,लेकिन आज से तीन साल पहले बनें इस क्लब ने अपने पहले दिन से ही वो प्रोफेशनल रवैया दिखाया है, जो भारतीय फुटबॉल के इतिहास में पहले कभी देखने को नहीं मिला। जेएसडबल्यू ग्रुप का ये क्लब जिसके मैनेजिंग डायरेक्टर सज्जन जिंदल और सीईओ पार्थ जिंदल हैं दोनों को इस क्लब की सफलता श्रेय जाना चाहिए, जिन्होंने अपने फायदे के लिए ही सही पर देश को एक पेशेवर तरीके से काम करने वाला क्लब दिया। क्लब को इतने अच्छे तरीके से चलाया जा रहा है कि आप इसकी तुलना किसी यूरोपियन क्लब से कर सकते हैं। ये क्लब टीम के हर छोटे बड़े पहलुओं पर बहुत बारीकी से ध्यान दे रहा है , क्लब के जूनियर टीम की परफॉरमेंस भी बहुत कम समय में देखते ही बनती है । खिलाड़ियों के चुनाव से लेकर भी क्लब का रवैया बहुत सख्त और प्रोफेशनल है , परफॉरमेंस के आधार पर बड़े-बड़े खिलाड़ियो को चुना जा रहा रहा है जो टीम के लिए अच्छा है और इसी के चलते पिछले तीन सालों में अपने क्लब के कुछ महत्वपूर्ण खिलाड़ियों को खोना पड़ा है सेन रूनी उन्हीं में से एक हैं पर इन खिलाड़ियों के रिप्लेसमेंट का काम भी काफी अच्छीतरह हो रहा है। इन सब बातों से पता चलता है कि क्लब भारत में फुटबॉल के भविष्य के लिए क्या कर रहा है और इसी को देखकर ये भी कहा जा सकता है कि बेंगलुरु एफसी एक लंबी रेस का घोड़ा है और इनकी रेस एएफसी कप का फाइनल जीत के शुरु हो सकती है।
1 / 5 NEXT
Published 22 Oct 2016, 14:00 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit