इटली को हराकर अर्जेंटीना ने दूसरी बार जीता फिनालिसिमा का खिताब

CONMEBOL-UEFA कप के साथ लायोनल मेसी और अर्जेंटीना की टीम।
CONMEBOL-UEFA कप के साथ लायोनल मेसी और अर्जेंटीना की टीम।

अर्जेंटीना की फुटबॉल टीम ने इटली को हराकर फिनालिसिमा यानी CONMEBOL-UEFA कप ऑफ चैंपियन्स जीत लिया है। लंदन में खेले गए मैच में कोपा अमेरिका कप की विजेता अर्जेंटीना ने यूरो 2020 की चैंपियन इटली को 3-0 से करारी शिकस्त दी और खिताब अपने नाम किया। इतिहास में तीसरी बार हो रहे इस खास मुकाबले को साल 1985 में फ्रांस ने जीता था जबकि 1993 में डिएगो माराडोना की अगुवाई में अर्जेंटीना की टीम ये खिताब जीतने में कामयाब रही थी।

अर्जेंटीना की जीत में लोटारो मार्टिनेज, एंजेल डि मारिया और पाओलो डिबाला ने गोल किए। कप्तान लायोनल मेसी ने मैच के पहले गोल में खास योगदान दिया और 28वें मिनट में अकेले गेंद को इटली के गोलपोस्ट के पास तक ले गए और मार्टिनेज को गोल दागने का मौका दिया। पहले हाफ के खत्म होने से ठीक पहले मार्टिनेज ने डि मारिया को असिस्ट दिया जिसे मारिया ने गोल में बदला और अर्जेंटीना को 2-0 से आगे कर दिया। मैच के खत्म होने से ठीक पहले डिबाला ने गोल कर निर्णायक स्कोर 3-0 कर दिया।

इस मुकाबले के बाद इटली के कप्तान 37 साल के जियोर्जियो चेलिनी अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉल से रिटायर भी हो गए। अपने करियर में कुल 117 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में इटली का प्रतिनिधित्व कर चुके चेलिनी अपने समय के सबसे बेहतरीन डिफेंडर्स में गिने जाते हैं।

चेलिनी ने साल 2004 में इटली के लिए डेब्यू किया था और पिछले 18 साल से टीम का हिस्सा रहे हैं। चेलिनी 2020 में यूरो कप जीतने वाली इटालियन टीम के कप्तान थे। लेकिन इस साल मार्च में नॉर्थ मेसिडोनिया के हाथों चौंकाने वाली हार के साथ इटली की टीम 2022 फीफा विश्व कप के लिए क्वालीफाई करने से चूक गई। वहीं अर्जेंटीना के लिए ये जीत काफी मायने रखती है क्योंकि 6 महीने से भी कम समय में विश्व कप शुुरु होना है और ऐसे में पूर्व चैंपियन इटली के खिलाफ जीत टीम का मनोबल बढ़ाएगी।

Edited by Prashant Kumar