Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

वर्ल्ड कप 2018: मेस्सी के दम पर नॉकआउट में पहुंचा अर्जेंटीना, नाइजीरिया को 2-1 से हराया

27 Jun 2018, 02:56 IST

दो बार की विश्व चैंपियन अर्जेंटीना ने ग्रुप डी के महत्त्वपूर्ण मुकाबले में नाइजीरिया को 2-1 से हराकर अंतिम 16 में जगह पक्की कर ली। अर्जेंटीना की ओर से पहला गोल स्टार लियोनल मेस्सी ने 14वें मिनट में किया, जबकि दूसरा गोल मार्कोस रोजो ने 86वें मिनट में दागा। नाइजीरिया की तरफ से एकमात्र गोल 51वें मिनट में विक्टर मोसेज ने किया।
इस मुकाबले पर दुनियाभर की निगाहें थीं। लचर प्रदर्शन से गुजर रहे मेस्सी के लिए यह मैच किसी लिटमस टेस्ट से कम नहीं था। हालांकि उन्होंने शुरूआती मिनटों में गोल दाग कर अपने प्रशंसकों को जश्न मनाने का मौका दिया। पहले हाफ के 14वें मिनट में गोल कर मेस्सी ने टीम को 1-0 से आगे कर दिया। यह मेस्सी का इस विश्व कप का पहला गोल है।
शुरूआती बढ़त के बाद भी अर्जेंटीना के खिलाड़ी लगातार गोल करने की कोशिश में लगे रहे लेकिन वे नाइजीरिया के डिफेंस को भेदने में नाकाम रहे। पहला हाफ 1-0 की बढ़त के साथ समाप्त हुआ।
दूसरे हाफ में मस्चरानो ने विक्टर मोसेज को फाउल कराने की कोशिश की, जिस कारण उन्होंने पेनल्टी की मांग की। मस्चरानो के इस फाउल का नाइजीरिया ने बखूबी फायदा उठाया और 51वें मिनट में विक्टर मोसेज ने गोल कर टीम को बराबरी पर ला दिया। इस गोल के बाद से प्रशंसकों को फिर से मैच के ड्रॉ होने का डर सताने लगा। एक तरफ जहां अर्जेंटीनी खिलाड़ी गोल की तलाश में लगे थे वहीं नाइजीरिया का डिफेंस उन्हें किसी भी तरह से मौका देने के मूड में नहीं लग रहा था।
हालांकि मैच का 86वां मिनट अर्जेंटीना के लिए सुखद क्षण लेकर आया। मार्कोस रोजो ने शानदार गोल करते हुए अर्जेंटीना को 2-1 की बढ़त दिला दी। यह गोल इस मैच का निर्णायक गोल साबित हुआ। अर्जेंटीना ने 2-1 से इस मैच को जीत लिया और अंतिम 16 में अपनी जगह पक्की कर ली।

पेरू ने आॅस्ट्रेलिया के प्री-क्वार्टर फाइनल के सपने को तोड़ा, 2-0 से दर्ज की जीत
पेरू ने आॅस्ट्रेलिया को 2-0 से हराकर उसके प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंचने के सपने को तोड़ दिया। ग्रुप सी के इस मैच में आॅस्ट्रेलिया को अगले दौर में पहुंचने के लिए बड़े अंतर से जीत की दरकार थी। साथ ही उसे इसी ग्रुप में फ्रांस और डेनमार्क के बीच हुए मुकाबले में डेनमार्क की हार की दुआ करनी थी। आॅस्ट्रेलिया के लिए दोनों में से कुछ नहीं हुआ। इधर उसे पेरू से हार का सामना करना पड़ा और उधर डेनमार्क ने फ्रांस से गोलरहित ड्रॉ खेला। इस मैच के परिणाम के बाद पेरू और आॅस्ट्रेलिया दोनों ही विश्व कप के अगले दौर से बाहर हो गए हैं।
आॅस्ट्रेलिया के लिए आज कुछ अच्छा नहीं रहा। उसके कप्तान जेडिनाक को मैच के 10वें मिनट में ही पीला कार्ड दिखाया गया। 18वें मिनट में पेरू के आंद्रे करिलो ने कप्तान पाउल गुएरा की मदद से गोल दाग कर टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। गुएरो ने पेनल्टी बॉक्स के बाएं कोने से गेंद दाईं ओर खड़े आंद्रे को दी, जिन्होंने बिना कोई गलती किए गेंद को नेट में पहुंचा दिया। दस मिनट बाद आॅस्ट्रेलिया ने मौका बनाया लेकिन उसे गोल में नहीं बदल पाया।
मैच के 34वें मिनट में टॉमस रोजिक और क्रूस की जुगलबंदी भी आॅस्ट्रेलिया को गोल नहीं दिला पाई। पहला हाफ पेरू के नाम रहा और उसने एक गोल की बढ़त के साथ इसे समाप्त किया। दूसरे हाफ में गुएरो ने 50वें मिनट में एडिसन फ्लोरेस के पास पर गोल कर टीम की बढ़त दोगुनी कर दी।
आॅस्ट्रेलिया ने दो गोल से पिछड़ने के बाद कुछ बदलाव किए और 54वें मिनट में टॉमी ज्यूरिक को बाहर भेज टिम काहिल को मैदान में बुलाया गया। 60वें मिनट में आॅस्ट्रेलिया को कॉर्नर मिला। काहिल ने इस पर शॉट लगाया लेकिन उसे ब्लॉक कर दिया गया। गेंद बेहिक के पास आई, जिन्होंने कोशिशकी लेकिन गोल नहीं कर पाने में नाकाम रहे।

क्रोएशिया ने आइसलैड को 2-1 से हराया

रोस्तोव एरिना में खेले गए ग्रुप डी के मुकाबले में क्रोएशिया ने आइसलैंड को 2-1 से हराकर ग्रुप दौर का अंत पहले स्थान के साथ किया। इस हार से आइसलैंड का सफर निराशाजनक तौर पर खत्म हुआ। उसने अर्जेंटीना को पहले मैच में 1-1 की बराबरी पर रोका था। क्रोएशिया ने ग्रुप दौर का अंत तीन मैचों में जीत हासिल कर नौ अंकों के साथ किया।
आइसलैंड को नॉकआउट की दौड़ में बने रहने के लिए क्रोएशिया के खिलाफ जीत की दरकार थी लेकिन इवान पेरीसिक के 90वें मिनट में किए गए गोल ने उसका सपना तोड़ दिया। हालांकि इस मैच में आइसलैंड ने अच्छा खेल दिखाया। 26वें मिनट में आइसलैंड के पास गोल करने का मौका था। उसे कॉर्नर मिला लेकिन टीम उसका फायदा नहीं उठा सकी। 29वें मिनट में उसे फ्री किक मिली लेकिन फिर से उसके खिलाड़ी नाकाम रहे। 41वें मिनट में भी आसलैंड के पास खाता खोलने का बेहतरीन अवसर था लेकिन बिरकिर बिनसन का शॉट गोल पोस्ट में नहीं पहुंच सका। पहला हाफ गोलरहित समाप्त हुआ।
दूसरे हाफ की शुरूआत में क्रोएशियाई टीम गोल करने में कामयाब रही। 53वें मिनट में मिलान बादेजिक ने बॉक्स के अंदर से उम्दा शॉट लगाकर टीम को 1-0 से बढ़त दिला दी। 74वें मिनट में आइसलैंड की किस्मत ने उसका साथ दिया और पेनल्टी एरिया में गेंद क्रोएशिया के डिफेंडर के हाथ से टकराई और आइसलैंड को पेनल्टी मिली जिसे सिगुर्डसन ने गोल में बदल कर टीम को 1-1 से बराबरी दिला दी। हालांकि अंतिम समय में पेरीसिक ने गोल दागकर क्रोएशिया को 2-1 से जीत दिला दी।

डेनमार्क ने फ्रांस से खेला विश्व कप 2018 का पहला गोलरहित ड्रॉ

लुझनिकी स्टेडियम में खेले गए ग्रुप सी के मैच में फ्रांस और डेनमार्क का मुकाबला गोलरहित ड्रॉ पर छूटा। इस विश्व कप में 36 मैचों के बाद ये पहला मुकाबला है जिसमें एक भी गोल नहीं हुआ। इस मैच को ड्रॉ करा के फ्रांस ग्रुप के शीर्ष पर काबिज हो गया है। साथ ही डेनमार्क पांच अंकों के साथ अंतिम 16 में जगह बनाने में कामयाब हो गया है।
ग्रुप सी की इन दो बड़ी टीमों के बीच जोरदार मुकाबले की उम्मीद थी लेकिन दोनों ही टीम अंत तक गोल करने में नाकाम रहीं। इस ग्रुप के एक अन्य मुकाबले में पेरू ने शानदार प्रदर्शन करते हुए आॅस्ट्रेलिया को 2-0 से हराया है। हालांकि दोनों टीमों को विश्व कप 2018 से बाहर का रास्ता देखना पड़ा है।
फ्रांस ने मुकाबले की शुरूआत आक्रमक तरीके की। उसे मैच के 16वें मिनट में ही पहला कॉर्नर मिला लेकिन थॉमस लेमार इसे गोल में बदलने में कामयाब नहीं हो सके। इसके बाद भी फ्रांस ने हमलावर रुख जारी रखा। 23वें मिनट में डेनमार्क को कॉर्नर मिला और इस बार उसकी तरफ से क्रिस्टियन एरिक्सन चूक गए। डेनमार्क को 63वें मिनट में फिर से कॉर्नर हासिल हुआ और एक बार फिर एरिक्सन इसे गोल में नहीं बदल पाए।
मैच समाप्त होने के चंद मिनट पहले दोनों ने गोल करने की भरपूर कोशिश की लेकिन सफलता किसी को नहीं मिली। इंजुरी टाइम में भी दोनों में से कोई भी टीम गोल नहीं कर पाई। अंत में यह मुकाबला गोलरहित ड्रॉ पर छूटा।

Advertisement
Advertisement
Fetching more content...