नहीं रहे इतिहास के सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी पेले, ब्राजील के अस्पताल में ली अंतिम सांस

पेले ने अपने फुटबॉल करियर में कुल तीन बार फीफा विश्व कप जीतने में कामयाबी  पाई।
पेले ने अपने फुटबॉल करियर में कुल तीन बार फीफा विश्व कप जीतने में कामयाबी पाई

20वीं सदी के महानतम फुटबॉलर के रूप में मशहूर खिलाड़ी पेले का 29 दिसंबर 2022 को निधन हो गया। 82 वर्ष के पेले कैंसर के कारण काफी अस्वस्थ थे और हाल ही में नवंबर में उन्हें ब्राजील के साउ पोलो में बने एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। क्रिसमस की पूर्व संध्या पर उनके स्वास्थ्य में काफी गिरावट आई थी जिसके बाद से ही उनका पूरा परिवार अस्पताल में मौजूद था।

ब्राजील की सीनियर टीम के लिए महज 16 साल की उम्र में पदार्पण करने वाले पेले ने 1958, 1962 और 1970 में टीम को विश्व कप दिलाने में अहम भूमिका निभाई। वह इतिहास के इकलौते खिलाड़ी हैं जो तीन बार विश्व विजेता बनने वाली फुटबॉल टीम का हिस्सा रहे हों। पेले को दुनियाभर के फुटबॉल फैंस का प्यार मिलता रहा। हाल ही में जब वह अस्पताल में भर्ती थे तो कतर में फीफा विश्व कप चल रहा था और इस दौरान ब्राजील की फुटबॉल टीम ने अपने हीरो के ठीक होने की कामना स्टेडियम में भी की थी।

ब्राजील के अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल इतिहास में पेले के नाम सबसे ज्यादा 77 गोल हैं। अपने पूरे करियर में खेले गए अलग-अलग फुटबॉल मुकाबलों में पेले ने कुल मिलाकर 1363 मैच खेले और 1279 गोल भी दागे और यह एक विश्व रिकॉर्ड है। अपने तेज-तर्रार खेल और गेंद पर मजबूत पकड़ के लिए मशहूर पेले को साल 1999 में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने 'एथलीट ऑफ द सेंचुरी' घोषित किया था। 2000 में पेले को FIFA Player of the Century भी घोषित किया गया। फुटबॉल में जिस G.O.A.T. यानी Greatest of All Time उपाधि के नाम पर आज दुनियाभर में फुटबॉल प्रेमी बहस करते हैं, उसके शुरु होने की वजह भी पेले ही थे।

1970 में फुटबॉल विश्व कप जीतने के बाद पेले को उनके साथियों ने यूं कंधे पर उठा लिया था।
1970 में फुटबॉल विश्व कप जीतने के बाद पेले को उनके साथियों ने यूं कंधे पर उठा लिया था।

पेले ने अपने जीवन में कुल 3 बार विवाह किया था। उनके कुल 7 बच्चे हैं जिनमें से बड़े बेटे एडिन्हो खुद भी ब्राजील के लिए फुटबॉल खेल चुके हैं। पेले का अंतिम संस्कार ब्राजील के सेंतोस में बने होम ग्राउंड पर 2 और 3 जनवरी 2023 को किया जाएगा। पेले ने अपने क्लब करियर की शुरुआत सेंतोस के फुटबॉल क्लब से ही की थी।

Edited by Prashant Kumar