Create
Notifications

एमएस धोनी के खेल और विनम्रता ने मुझे काफी प्रभावित किया - अनिरुद्ध थापा

एमएस धोनी
एमएस धोनी
Vivek Goel

भारतीय फुटबॉल टीम के मिडफील्‍डर अनिरुद्ध थापा ने कहा कि उनका खेल महान क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की सोच से प्रेरित है। एआईएफएफ वेबसाइट पर प्रकाशित इंटरव्‍यू में युवा अनिरुद्ध थापा ने खुलासा किया कि कैसे उन्‍हें दो बार के विश्‍व कप विजेता कप्‍तान एमएस धोनी से प्रेरणा मिली। बता दें कि टीम इंडिया के पूर्व कप्‍तान एमएस धोनी ने 15 अगस्‍त को सोशल मीडिया पर एक वीडियो के जरिये अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट से संन्‍यास की घोषणा की थी।

अनिरुद्ध थापा ने कहा, 'मैं हमेशा एमएस धोनी को खेलते देखने का आनंद उठाता हूं क्‍योंकि उनका स्‍टाइल अलग है। आक्रमकता- मुझे वो बहुत पसंद है। इससे मुझे अपने खेल में भी प्रेरणा मिलती है। फुटबॉल ऐसा खेल है जहां आपको सख्‍त और आक्रामक दोनों होने की जरूरत होती है। एमएस धोनी को बड़े शॉट खेलते देख मजा आता था। इससे मुझ पर प्रभाव पड़ा और 50-50 चैलेंजेस के दौरान उन्‍हें जीतने में इससे काफी मदद मिली।'

अनिरुद्ध थापा ने कहा कि उनका पूरा ध्‍यान आईपीएल में धोनी को खेलते देखना है। अनिरुद्ध थापा ने कहा, 'जब मैंने एमएस धोनी के संन्‍यास की खबर सुनी तो बहुत दुखी हुआ क्‍योंकि मैं उनका बहुत बड़ा फैन हूं। उम्‍मीद है कि मैंन उन्‍हें इस साल आईपीएल में खेलता देखूंगा।' मिडफील्‍डर अनिरुद्ध थापा ने आईएसएल टीम चेन्‍नईयन एफसी के लिए 55 मैच खेले और चौथे संस्‍करण में वह विजयी टीम का हिस्‍सा भी रहे। अनिरुद्ध थापा ने बताया कि चेन्‍नईयन एफसी के सह-मालिक एमएस धोनी ने किस तरह खिलाड़‍ियों का प्रोत्‍साहन बढ़ाया।

अनिरुद्ध थापा ने गिनाई धोनी की खूबियां

अनिरुद्ध थापा ने कहा, 'एमएस धोनी बहुत विनम्र व्‍यक्ति हैं। वह शानदार हैं जो हमेशा हमारा प्रोत्‍साहन बढ़ाते हैं और अपने अनुभव साझा करते हैं। टीम लांच के मौके पर धोनी हमारे पास आकर बातें करते हैं। धोनी ने अपनी जिंदगी में बहुत कुछ देखा है और हम सभी उनकी जिंदगी के बारे में जानते हैं। इसलिए जब वो हमें कुछ कहते हैं तो बड़ा फर्क आता है। उस अनुभव का प्राप्‍त करना मेरे लिए वाकई फैन ब्‍वॉय पल था।'

अनिरुद्ध थापा ने एमएस धोनी की विनम्रता की तारीफ करते हुए एक किस्‍सा बताया। थापा ने कहा, 'मुझे याद है कि एक बार लंच के बाद हर कोई जा रहा था और कुछ युवा खिलाड़ी धोनी के पास गए और उनसे ऑटोग्राफ लेने लगे। अन्‍य लोगों ने धोनी को बुलाया, लेकिन उन्‍होंने जोर देकर अन्‍य लोगों को रोका और हमसे बातचीत की। धोनी ने हमें समय दिया और अपने अनुभव हमसे साझा किए। उस समय मुझे एहसास हुआ कि वो कितने विनम्र हैं।'


Edited by निशांत द्रविड़

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...