Create

चेल्सी फुटबॉल क्लब का भविष्य अधर में, ब्रिटेन ने लगाई मालिक एब्रामोविच पर पाबंदी, फैंस हुए नाराज

चेल्सी फुटबॉल क्लब न किसी नए खिलाड़ी को खरीद पाएगा और न ही ट्रांसफर कर पाएगा।
चेल्सी फुटबॉल क्लब न किसी नए खिलाड़ी को खरीद पाएगा और न ही ट्रांसफर कर पाएगा।

रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद पैदा हुई स्थिति का खामियाजा फुटबॉल की दुनिया को झेलना पड़ रहा है। ताजा मामले में ब्रिटिश सरकार की ओर से रूसी अरबपति रोमन एब्रामोविच पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए गए हैं जिस वजह से इंग्लिश फुटबॉल क्लब चेल्सी के भविष्य पर संकट खड़ा हो गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि रोमन एब्रामोविच चेल्सी के मालिक हैं और रूस के हमले के कुछ दिन बाद ही क्लब को बेचने का ऐलान कर चुके थे। सरकार की ओर से लगाई गई पाबंदियों के विरोध में फैंस जमकर सोशल मीडिया पर गुस्सा निकाल रहे हैं।

चेल्सी फुटबॉल क्लब ने आधिकारिक रूप से सेंक्शन लगाए जाने की जानकारी दी।
चेल्सी फुटबॉल क्लब ने आधिकारिक रूप से सेंक्शन लगाए जाने की जानकारी दी।

यूनाईटेड किंगडम यानी यूके की सरकार के द्वारा राष्ट्रपति पुतिन से नजदीकी का आरोप लगाते हुए रोमन की सारी सम्पत्ति फ्रीज कर दी गई है जिसमें चेल्सी फुटबॉल क्लब भी शामिल है। रोमन उन 7 रूसी मूल के अरबपतियों में शामिल हैं जिनपर यूके की सरकार द्वारा सेंक्शन लगाए गए हैं। सरकार ने चेल्सी के रोजाना के कामकाज पर तरह-तरह के प्रतिबंध लगाए हैं। इन प्रतिबंध की वजह से -

1) चेल्सी फुटबॉल क्लब के मैचों के नए टिकट की बिक्री पर रोक लगा दी गई है।

2) टीम के मर्चेंडाइज यानी टी-शर्ट, जर्सी और अन्य सामान की बिक्री भी अगली घोषणा तक नहीं की जा सकेगी।

3) यही नहीं, रोमन के लिए क्लब को बेचना अब मुश्किल हो जाएगा। सरकार ने शर्त रखी है कि रोमन अगर क्लब को बेचना चाहेंगे तो इसके लिए सरकार को बिक्री की प्रक्रिया का हिस्सा बनाना होगा और बिक्री से होने वाली आय का नियंत्रण भी रोमन के पास नहीं होगा। ऐसे में अब रोमन क्लब की बिक्री में शायद ही रुचि दिखाएं।

रोमन एब्रामोविच चेल्सी के सबसे सफल मालिक माने जाते हैं।
रोमन एब्रामोविच चेल्सी के सबसे सफल मालिक माने जाते हैं।

4) क्लब के हर हफ्ते होने वाले यात्रा व्यय की सीमा तय कर दी गई है। क्लब 20 हजार पाउंड से ज्यादा हर हफ्ते यात्रा पर नहीं खर्च कर पाएगा। ऐसे में खिलाड़ी दूसरे क्लबों के होम ग्राउंड पर होने वाले मैचों के लिए पहले की तरह आराम से टीम के प्राइवेट प्लेन पर शायद यात्रा न कर पाएं।

5) क्लब नए कॉन्ट्रेक्ट नहीं कर पाएगा, खिलाड़ियों के ट्रांसफर क्लब की ओर से नहीं हो पाएंगे। ऐसे में सरकार की ओर से लगाई जा रही पाबंदियों का सामना खिलाड़ियों को भी करना पड़ेगा।

क्लब को मुकाबले खेलने की छूट दी गई है। इसके अलावा मुकाबलों के प्रसारण से होने वाली आमदनी क्लब रख पाएगा। अन्य क्लबों के होम ग्राउंड में होने वाले मुकाबलों के टिकट चेल्सी के समर्थक नहीं खरीद पाएंगे। पाबंदियों की घोषणा के बाद ही चेल्सी के होम ग्राउंड एमिरेट्स स्टेडियम के पास बने क्लब के स्टोर को बंद कर दिया गया जिससे स्थानीय फैंस काफी निराश हुए।

फैंस ने जाहिर किया गुस्सा

As a die hard Chelsea fan, I will continue to protest until the sanctions of our club owner is reversed... I don't support war or whatsoever in Ukraine, but I support ROMAN ABRAMOVICH. #IamForRomanAbramovich https://t.co/jovf5E2OMl

यूके सरकार की ओर से रोमन एब्रामोविच पर लगाए गई पाबंदियों और चेल्सी फुटबॉल क्लब को विशेष रूप से हो रहे नुकसान के विरोध में फुटबॉल फैंस, विशेषकर चेल्सी के फैंस खुलकर सोशल मीडिया पर नाराजगी जाहिर कर रहे हैं।

✅ Helped the country more than their own govt did ✅ Paid salaries in full during covid when others were mass firing people✅ Allowed the NHS staff to stay at Chelsea’s hotel and use SB as a vaccination centre whenever required. Best owner in the world & idc what you say 💙 https://t.co/VcQaOU3O8w

फैंस का मानना है कि रूसी सरकार और सेना की कार्यवाही का खामियाजा रोमन और फुटबॉल क्लब चेल्सी को जबरन भुगतना पड़ रहा है। रोमन ने चेल्सी को बेचने का ऐलान करते हुए ये घोषणा भी की थी कि जो भी धनराशि उन्हें बिक्री से मिलेगी उसे वो युद्ध प्रभावित परिवारों की मदद को दान देंगे। ऐसे में फैंस सरकार के रवैये से हैरान हैं और गुस्सा भी। फैंस का मानना है कि इस पूरे घटनाक्रम में खेल, खिलाड़ियों और क्लब का नुकसान हो रहा है और युद्ध रोकने में इससे कोई मदद नहीं मिलने वाली।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment