आयुर्वेद के अनुसार तिल के तेल की मालिश के 10 फायदे

आयुर्वेद के अनुसार तिल के तेल की मालिश के 10 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
आयुर्वेद के अनुसार तिल के तेल की मालिश के 10 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

तिल के तेल की मालिश, आयुर्वेद में एक परंपरागत प्रथा है, जिसमें शरीर और मानसिकता के लिए विशिष्ट चिकित्सा लाभ प्रदान करती है। आयुर्वेदिक सिद्धांतों के अनुसार, नियमित तिल के तेल की मालिश, जिसे "अभ्यंग" भी कहा जाता है, संतुलन, पोषण और सम्पूर्ण कल्याण को प्रोत्साहित कर सकती है। यहां आयुर्वेद द्वारा तिल के तेल की मालिश के कुछ मुख्य लाभ हैं:-

आयुर्वेद के अनुसार तिल के तेल की मालिश के 10 फायदे (10 Benefits Of Sesame Oil Massage According To Ayurveda In Hindi)

त्वचा को पोषण: तिल के तेल में विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो त्वचा को गहरे से पोषण और मोइस्चराइज़ करते हैं। नियमित मालिश से त्वचा स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद होती है, जिससे यह मुलायम, मुलायम और ब्रह्मणी होती है।

सिरक्यूलेशन को बेहतर करता है: मालिश की हलकी, तालिक स्ट्रोक्स रक्त संचरण और लिम्फैटिक फ्लो को उत्तेजित करते हैं। यह पोषण के पोषण की परिसंचायन और शरीर के ऊतकों से कचरे के निष्कासन की सुविधा को बढ़ाता है।

डिटॉक्सिफिकेशन: तिल के तेल की मालिश शरीर से जहरों और कचरे के उत्कृष्टी में मदद करती है। तेल की प्रविष्ट करने की गुणवत्ता के कारण यह अशुद्धियों को बाहर निकालने में मदद करता है, जो डिटॉक्सिफिकेशन को प्रोत्साहित करता है।

तंत्रिका प्रणाली को शांति: तिल के तेल की गरमी और सुखद मालिश की तकनीक से तंत्रिका प्रणाली को शांति मिलती है। यह तनाव, चिंता को कम कर सकता है और विश्राम को प्रोत्साहित कर सकता है, जो सामग्री भी महत्वपूर्ण है।

संयम और मांसपेशियों की स्वास्थ्य: नियमित तिल के तेल की मालिश से मांसपेशियों के तनाव, स्टिफनेस और जोड़ों में असहमति कम हो सकती है। यह जोड़ों को चिकनाई देने और मांसपेशियों को पोषण देने में मदद करता है, जो लचीलाता को प्रोत्साहित करता है।

नींद को प्रोत्साहित करता है: तिल के तेल की मालिश के शांतिप्रद प्रभाव बेहतर नींद तक फैलते हैं। सोने से पहले गरम तेल के साथ सिर और पैरों की मालिश करने से एक शांति की भावना आती है, जो आरामदायक नींद में मदद कर सकता है।

वात दोष को संतुलित करता है: आयुर्वेद में, तिल के तेल से वात दोष को संतुलित करने का मानना है, जो गतिविधि और तंत्रिका प्रणाली का नियंत्रण करता है। संतुलित वात दोष से बेहतर पाचन, बेहतर नींद और सम्पूर्ण ऊर्जा होती है।

तनाव की राहत: मालिश की छूट की तकनीक के साथ-साथ तिल के तेल की चिकित्सात्मक गुणों के कारण, यह शारीरिक और मानसिक तनाव से राहत प्रदान कर सकता है, जिससे आराम और शांति की भावना आती है।

वृद्धि रोकने में सहायक: तिल के तेल के एंटीऑक्सीडेंट गुण मुक्त रेडिकल्स द्वारा होने वाले क्षति को रोकने में मदद करते हैं। नियमित मालिश युवावस्था और स्वस्थ त्वचा की देखभाल करने में सहायक हो सकती है।

पाचन को बेहतर बनाता है: आयुर्वेद सुझाव देता है कि तिल के तेल की मालिश करवाता विषाणु में दक्षिणावर्ती दिशा में पेट की मालिश करने से पाचन में मदद हो सकती है। यह पाचन को स्वस्थ बनाने में मदद करता है और ब्लोटिंग और कब्ज जैसी समस्याओं से बचाने में मदद करता है।

तिल के तेल की मालिश करने के लिए, तेल को थोड़ी गरमी से गरम करें, हलके, लंबे स्ट्रोक्स का उपयोग करके सम्पूर्ण शरीर में लगाएं, और इसे 15-20 मिनट तक बच्चा दें परन्तु उसे धोने से पहले। खासकर यदि आपके पास विशिष्ट स्वास्थ्य स्थितियाँ हैं, तो इस अभ्यंग प्रथा की शुरुआत से पहले एक आयुर्वेदिक वैद्य से सलाह लेना सिफारिश की जाती है। तिल के तेल की मालिश, सावधानी और समझदारी से की जाने वाली, आयुर्वेदिक सिद्धांतों से मिलकर शरीर और मानसिकता को सामंजस्य और ऊर्जावानीत करने में सहायक हो सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now