Thyroid का देसी इलाज

Thyroid का देसी इलाज (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
Thyroid का देसी इलाज (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

कुछ घरेलू उपचार हैं जो थायराइड (Thyroid) विकारों के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन उपचारों का उपयोग चिकित्सा उपचार के विकल्प के रूप में नहीं किया जाना चाहिए, बल्कि स्थिति से जुड़ी कुछ असुविधाओं को कम करने में मदद करने के लिए एक पूरक दृष्टिकोण के रूप में किया जाना चाहिए। यहां कुछ उपाय दिए गए हैं जिन्हें आप आजमा सकते हैं:

Thyroid का देसी इलाज (10 Home Remedies For Thyroid In Hindi)

1. अश्वगंधा: इस जड़ी बूटी को थायरॉयड ग्रंथि पर संतुलन प्रभाव के लिए जाना जाता है। यह थायराइड हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करने और तनाव के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है, जो थायराइड की समस्याओं को बढ़ा सकता है।

2. नारियल का तेल: नारियल के तेल में मीडियम-चेन फैटी एसिड की मात्रा अधिक होती है जो थायरॉइड फंक्शन को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यह लॉरिक एसिड का भी एक अच्छा स्रोत है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है।

3. सेब का सिरका: सेब का सिरका पाचन और चयापचय में सुधार करने में मदद कर सकता है, जो थायराइड की समस्याओं से जुड़े वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

4. अदरक: अदरक एक प्राकृतिक एंटी-इंफ्लेमेटरी है और थायरॉयड ग्रंथि में सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। यह पाचन में सुधार करने और थायराइड की समस्याओं से जुड़ी मतली को कम करने में भी मदद कर सकता है।

5. सेलेनियम युक्त खाद्य पदार्थ: थायराइड स्वास्थ्य के लिए सेलेनियम एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। सेलेनियम में उच्च खाद्य पदार्थों में ब्राजील नट्स, टूना, सार्डिन और टर्की शामिल हैं।

6. गोइट्रोजेनिक खाद्य पदार्थों से बचें: गोइट्रोजेन ऐसे पदार्थ हैं जो थायरॉइड फ़ंक्शन में हस्तक्षेप कर सकते हैं। गोइट्रोजेन में उच्च खाद्य पदार्थों में क्रूसिफेरस सब्जियां (ब्रोकोली, फूलगोभी, केल, आदि), सोया उत्पाद और मूंगफली शामिल हैं।

7. व्‍यायाम करें: नियमित व्‍यायाम करने से थायरॉइड की कार्यप्रणाली में सुधार होता है और थकान और वजन बढ़ने जैसे लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। सप्ताह के अधिकांश दिनों में कम से कम 30 मिनट का मध्यम व्यायाम करने का लक्ष्य रखें, जैसे पैदल चलना या साइकिल चलाना।

8. विटामिन डी: विटामिन डी की कमी को थायराइड विकारों से जोड़ा गया है। स्वस्थ स्तर बनाए रखने के लिए भरपूर धूप लें या विटामिन डी सप्लीमेंट लें।

9. ओमेगा-3 फैटी एसिड: ओमेगा-3 एस आवश्यक फैटी एसिड होते हैं जो सूजन को कम करने और थायरॉइड फ़ंक्शन को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। सैल्मन, मैकेरल और सार्डिन जैसी अधिक वसायुक्त मछली खाएं या मछली के तेल का पूरक लें।

10. एडैप्टोजेनिक हर्ब्स: रोडियोला और जिनसेंग जैसे एडाप्टोजेन्स शरीर की तनाव प्रतिक्रिया को विनियमित करने में मदद कर सकते हैं, जो थायराइड विकारों के प्रबंधन में मददगार हो सकते हैं।

थायराइड विकारों के लिए कोई भी घरेलू उपचार आजमाने से पहले एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है, खासकर यदि आप पहले से ही दवा ले रहे हैं या अन्य स्वास्थ्य स्थितियां हैं।

youtube-cover

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now