किडनी खराब होने के 10 लक्षण और कारण

किडनी खराब होने के 10 लक्षण और कारण (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
किडनी खराब होने के 10 लक्षण और कारण (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

किडनी की विफलता एक गंभीर स्वास्थ्य स्थिति है जो अक्सर सूक्ष्म लक्षणों के साथ चुपचाप विकसित होती है जिन्हें आसानी से नजरअंदाज किया जा सकता है। यह लेख किडनी फेलियर के स्पष्ट संकेतों और अंतर्निहित कारणों की पड़ताल करता है, और बेहतर दीर्घकालिक स्वास्थ्य परिणामों के लिए शीघ्र पता लगाने और प्रबंधन के महत्व पर प्रकाश डालता है।

किडनी खराब होने के 10 लक्षण और कारण (10 Symptoms and causes of kidney failure in hindi)

youtube-cover

थकान: लगातार थकान महसूस करना और ऊर्जा की कमी होना किडनी खराब होने का एक सामान्य प्रारंभिक लक्षण है। जब गुर्दे ठीक से काम नहीं करते हैं, तो शरीर में विषाक्त पदार्थों का निर्माण हो सकता है, जिससे थकान हो सकती है।

सूजन: शरीर द्वारा अतिरिक्त तरल पदार्थ निकालने में असमर्थता के परिणामस्वरूप सूजन हो सकती है, जो अक्सर पैरों, टखनों और चेहरे पर ध्यान देने योग्य होती है। इस स्थिति को एडिमा कहा जाता है।

सांस की तकलीफ: जैसे ही शरीर में तरल पदार्थ जमा होता है, यह फेफड़ों को भी प्रभावित कर सकता है, जिससे सांस लेने में कठिनाई और सांस की तकलीफ हो सकती है।

पेशाब में परिवर्तन: गुर्दे की विफलता से विभिन्न मूत्र संबंधी लक्षण हो सकते हैं, जिनमें मूत्र उत्पादन में कमी, रात में पेशाब करने की आवश्यकता में वृद्धि, या झागदार मूत्र शामिल है। कुछ मामलों में, गुर्दे द्वारा मूत्र को केंद्रित करने में असमर्थता के कारण मूत्र उत्पादन में वृद्धि हो सकती है।

उच्च रक्तचाप: उच्च रक्तचाप गुर्दे की विफलता का एक कारण और लक्षण दोनों है। यह गुर्दे में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे कार्य में कमी आ सकती है।

मतली और उल्टी: शरीर में अपशिष्ट उत्पादों के जमा होने से मतली और उल्टी जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षण हो सकते हैं।

खुजली और त्वचा पर चकत्ते: गुर्दे की विफलता के परिणामस्वरूप रक्त में अपशिष्ट उत्पादों का संचय हो सकता है, जिससे खुजली और दाने सहित त्वचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

धातु जैसा स्वाद: मुंह में लगातार धातु जैसा स्वाद बना रहना किडनी की विफलता का एक और लक्षण है, जो अक्सर सांसों की दुर्गंध के साथ होता है।

मांसपेशियों में ऐंठन और कमजोरी: इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन, जैसे पोटेशियम का उच्च स्तर, मांसपेशियों में ऐंठन और कमजोरी का कारण बन सकता है।

न्यूरोलॉजिकल लक्षण: उन्नत किडनी विफलता रक्त में विषाक्त पदार्थों के संचय के कारण भ्रम, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी और यहां तक कि दौरे का कारण बन सकती है।

किडनी फेलियर के कारण:-

क्रोनिक किडनी रोग (Chronic Kidney Disease): किडनी की विफलता का सबसे आम कारण क्रोनिक किडनी रोग का धीरे-धीरे बढ़ना है, जो अक्सर मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियों के कारण होता है। समय के साथ, ये स्थितियां किडनी को नुकसान पहुंचा सकती हैं, जिससे उनके कार्य में गिरावट आ सकती है।

तीव्र गुर्दे की चोट (Acute Kidney Injury): यह गुर्दे की कार्यप्रणाली का अचानक और गंभीर नुकसान है, जो अक्सर निर्जलीकरण, संक्रमण, दवा विषाक्तता, या दर्दनाक चोट जैसे कारकों के कारण होता है।

ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस (Glomerulonephritis): ग्लोमेरुली की सूजन, गुर्दे के भीतर छोटे फिल्टर, गुर्दे की क्षति का कारण बन सकते हैं। यह विभिन्न संक्रमणों, ऑटोइम्यून बीमारियों या आनुवंशिक कारकों के परिणामस्वरूप हो सकता है।

पॉलीसिस्टिक किडनी रोग (Polycystic Kidney Disease): एक आनुवंशिक विकार, पीकेडी के कारण किडनी में सिस्ट विकसित हो जाते हैं, जो धीरे-धीरे उनके कार्य को कम कर सकते हैं।

मूत्र पथ में रुकावट (Urinary Tract Obstruction): ऐसी स्थितियाँ जो मूत्र के प्रवाह में बाधा डालती हैं, जैसे कि गुर्दे की पथरी, ट्यूमर, या बढ़ा हुआ प्रोस्टेट, अगर तुरंत इलाज न किया जाए तो गुर्दे की क्षति हो सकती है।

संक्रमण (Infections): गंभीर या बार-बार होने वाले किडनी संक्रमण से समय के साथ किडनी में घाव और क्षति हो सकती है।

ऑटोइम्यून विकार (Autoimmune Disorders): ल्यूपस और कुछ प्रकार के वास्कुलिटिस जैसी स्थितियां गुर्दे की सूजन और क्षति का कारण बन सकती हैं।

विषाक्त एक्सपोजर (Toxic Exposure): चिकित्सा प्रक्रियाओं में उपयोग की जाने वाली कुछ दवाओं, रसायनों या कंट्रास्ट रंगों के संपर्क में आना किडनी के लिए विषाक्त हो सकता है और किडनी की विफलता में योगदान कर सकता है।

वंशानुगत स्थितियाँ (Hereditary Conditions): कुछ दुर्लभ वंशानुगत स्थितियाँ, जैसे कि एलपोर्ट सिंड्रोम, गुर्दे की विफलता का कारण बन सकती हैं।

कैंसर (Cancer): गुर्दे के कैंसर का यदि शुरुआती चरण में पता नहीं लगाया गया और इलाज नहीं किया गया, तो यह उन्नत गुर्दे की विफलता में बदल सकता है।

गुर्दे की विफलता के इन लक्षणों और कारणों के बारे में जागरूक होना आवश्यक है, क्योंकि शीघ्र पता लगाने और हस्तक्षेप से स्थिति को प्रबंधित करने और गुर्दे को और अधिक नुकसान से बचाने में मदद मिल सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now