गैस बनने के 4 कारण और 8 घरेलू उपचार

गैस बनने के 4 कारण और 8 घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
गैस बनने के 4 कारण और 8 घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

पाचन तंत्र में गैस बनना एक आम समस्या है जो बेचैनी और सूजन का कारण बन सकती है। गैस निर्माण में कई कारक योगदान करते हैं, जिनमें शामिल हैं:-

गैस बनने के 4 कारण और 8 घरेलू उपचार (4 Causes Of Gas Formation And 8 Home Remedies In Hindi)

निगलने वाली हवा (Swallowing Air)

बहुत जल्दी-जल्दी खाना या पीना, च्युइंगम चबाना, या कार्बोनेटेड पेय पदार्थ पीने से हवा का अंतर्ग्रहण हो सकता है, जो पाचन तंत्र में जमा हो जाता है और गैस का कारण बनता है।

आहार (Diet)

कुछ खाद्य पदार्थ गैस का उत्पादन करने के लिए जाने जाते हैं, जैसे बीन्स, दाल, ब्रोकोली, गोभी, प्याज और कार्बोनेटेड पेय। इन खाद्य पदार्थों में जटिल कार्बोहाइड्रेट होते हैं जो शरीर द्वारा पूरी तरह से पचाए नहीं जाते हैं, जिससे किण्वन प्रक्रिया के दौरान गैस का उत्पादन होता है।

पाचन विकार (Digestive Disorders)

चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS), लैक्टोज असहिष्णुता और सीलिएक रोग जैसी स्थितियां कुछ खाद्य पदार्थों या पदार्थों को पचाने में कठिनाइयों के कारण अत्यधिक गैस बनने का कारण बन सकती हैं।

बैक्टीरियल अतिवृद्धि (Bacterial Overgrowth)

छोटी आंत में जीवाणुओं के असंतुलन के परिणामस्वरूप गैस उत्पादन में वृद्धि हो सकती है। छोटी आंतों के जीवाणु अतिवृद्धि (SIBO) के रूप में जानी जाने वाली यह स्थिति भोजन के बाद सूजन और गैस का कारण बन सकती है।

गैस और सूजन को कम करने के लिए 8 घरेलू उपाय कारगर हो सकते हैं:-

पेपरमिंट चाय: पेपरमिंट में एंटीस्पाज्मोडिक गुण होते हैं जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट की मांसपेशियों को आराम करने में मदद कर सकते हैं, गैस और सूजन को कम कर सकते हैं। पुदीने की चाय पीने से राहत मिल सकती है।

अदरक: लंबे समय से अदरक का उपयोग पाचन में सहायता और गैस को कम करने के लिए किया जाता है। अदरक की चाय का सेवन या भोजन में कद्दूकस किया हुआ अदरक मिलाने से लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

सौंफ: खाना खाने के बाद एक चम्मच सौंफ चबाने से गैस से राहत मिलती है। सौंफ के बीज में यौगिक होते हैं जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट की मांसपेशियों को आराम देते हैं और पाचन को बढ़ावा देते हैं।

प्रोबायोटिक्स: प्रोबायोटिक सप्लीमेंट या खाद्य पदार्थ जैसे दही और किण्वित सब्जियां आंत में फायदेमंद बैक्टीरिया के संतुलन को बहाल कर सकती हैं, गैस को कम कर सकती हैं और पाचन में सुधार कर सकती हैं।

सक्रिय चारकोल: भोजन से पहले या बाद में सक्रिय चारकोल कैप्सूल लेने से पाचन तंत्र में अतिरिक्त गैस को अवशोषित करने, सूजन और बेचैनी को कम करने में मदद मिल सकती है।

ट्रिगर फूड्स से बचें: उन खाद्य पदार्थों की पहचान करें जो गैस बनने को ट्रिगर करते हैं और उन्हें सीमित करने या उनसे बचने का प्रयास करें। कौन से खाद्य पदार्थ गैस पैदा करते हैं और उसके अनुसार अपने आहार को समायोजित करने के लिए एक खाद्य डायरी रखें।

धीरे-धीरे खाना और ध्यान से खाना: धीरे-धीरे और दिमाग से खाना खाने से अतिरिक्त हवा को निगलने से रोका जा सकता है, गैस बनने को कम करने में मदद मिलती है। भोजन को अच्छी तरह चबाएं और छोटे-छोटे निवाले लें।

नियमित व्यायाम: नियमित शारीरिक गतिविधि में शामिल होने से पाचन को उत्तेजित करने और गैस से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है। चलने या योग जैसे कोमल व्यायाम विशेष रूप से फायदेमंद हो सकते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यदि अत्यधिक गैस और सूजन बनी रहती है या गंभीर लक्षणों के साथ होती है, तो उचित निदान और उचित उपचार के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment