यहाँ जाने: आपकी जीभ का रंग काला होने के 4 कारण?

4 Reasons Why The Colour Of Your Tongue Is Dark?
यहाँ जाने: आपकी जीभ का रंग काला होने के 4 कारण?

आपकी जीभ आपके संपूर्ण स्वास्थ्य का एक अच्छा संकेतक हो सकती है। यदि आपने देखा है कि आपकी जीभ का रंग सामान्य से अधिक गहरा है, तो यह किसी आंतरिक समस्या का संकेत हो सकता है। यहां कुछ संभावित कारण बताए गए हैं कि आपकी जीभ का रंग गहरा क्यों हो सकता है , इस बारे में आपको विस्तार से जानकारी दे सकते हैं!

निम्नलिखित इन 5 बिन्दुओं के माध्यम से यहाँ समझें:-

1. खराब मौखिक स्वच्छता:

उचित मौखिक स्वच्छता की उपेक्षा करने से आपकी जीभ पर बैक्टीरिया का निर्माण हो सकता है, जिससे जीभ काली दिखाई देने लगती है। इस संचय के परिणामस्वरूप सांसों की दुर्गंध और अन्य मौखिक स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं।

खराब मौखिक स्वच्छता!
खराब मौखिक स्वच्छता!

2. निर्जलीकरण:

जब आप निर्जलित होते हैं, तो आपका शरीर आपके मुंह को नम रखने के लिए पर्याप्त लार का उत्पादन नहीं कर पाता है। बैक्टीरिया और मृत कोशिकाओं के जमा होने के कारण आपकी जीभ का रंग गहरा हो सकता है। हाइड्रेटेड रहने के लिए पूरे दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पीना सुनिश्चित करें।

3. दवाएँ:

कुछ दवाएँ दुष्प्रभाव के रूप में आपकी जीभ के रंग में बदलाव ला सकती हैं। उदाहरण के लिए, कुछ एंटीबायोटिक्स, एंटीफंगल और अन्य प्रिस्क्रिप्शन दवाओं से जीभ का रंग खराब हो सकता है। यदि आपको संदेह है कि आपकी दवा इस समस्या का कारण बन रही है, तो वैकल्पिक विकल्पों के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श लें।

4. चिकित्सीय स्थितियाँ:

youtube-cover

कुछ मामलों में, जीभ का काला पड़ना किसी आंतरिक चिकित्सीय स्थिति का लक्षण हो सकता है। मुँह में छाले, काले बालों वाली जीभ, या विटामिन की कमी जैसी स्थितियाँ आपकी जीभ के रंग और बनावट में बदलाव का कारण बन सकती हैं। यदि आप लगातार जीभ के रंग में बदलाव या अन्य मौखिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं का अनुभव कर रहे हैं तो स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा