मासिक धर्म संबंधी समस्याओं के लिए 5 आयुर्वेदिक उपचार!

5 Ayurvedic Remedies For Menstrual Issues!
मासिक धर्म संबंधी समस्याओं के लिए 5 आयुर्वेदिक उपचार!

मासिक धर्म संबंधी समस्याएं महिलाओं में एक आम चिंता का विषय है जो दर्द और परेशानी से लेकर अनियमित चक्र तक हो सकती है। आयुर्वेद, एक प्राचीन समग्र उपचार प्रणाली, इन समस्याओं को कम करने में मदद के लिए प्राकृतिक उपचार प्रदान करती है। आज हम कुछ कमाल के आयुर्वेदिक उपचार जानेंगे जो मासिक धर्म संबंधी समस्याओं से राहत दिला सकते हैं और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकते हैं।

निम्नलिखित बिन्दुओं के माध्यम से जाने इन समस्याओं के बारे में:-

1. हर्बल चाय:

हर्बल चाय मासिक धर्म की परेशानी को दूर करने का एक आरामदायक तरीका है। अदरक की चाय अपने सूजनरोधी गुणों के कारण विशेष रूप से प्रभावी है जो ऐंठन को कम कर सकती है और दर्द को कम कर सकती है। कैमोमाइल चाय मांसपेशियों को आराम देने और तनाव को कम करने में मदद कर सकती है, जिसके वजह से मासिक धर्म की परेशानी कम हो सकती है। आपके मासिक धर्म के दौरान गर्म हर्बल चाय पीने से आराम और राहत मिल सकती है।

2. पाचन के लिए त्रिफला:

youtube-cover

त्रिफला एक पारंपरिक आयुर्वेदिक मिश्रण है जो तीन फलों से बना है: अमलाकी (आंवला), बिभीतकी और हरीतकी। यह अपने पाचन लाभों के लिए जाना जाता है और मल त्याग को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। मासिक धर्म के दौरान उचित पाचन बनाए रखना महत्वपूर्ण है, क्योंकि पाचन संबंधी समस्याएं असुविधा और सूजन को बढ़ा सकती हैं।

3. स्वयं की मालिश:

गर्म तेल से स्वयं मालिश करने की प्रथा, आयुर्वेद का एक प्रमुख पहलू है। गर्म तिल या नारियल के तेल से पेट और पीठ के निचले हिस्से की मालिश करने से रक्त परिसंचरण में सुधार हो सकता है, मांसपेशियों को आराम मिल सकता है और मासिक धर्म की ऐंठन कम हो सकती है। यह आत्म-देखभाल आराम और विश्राम की भावना भी प्रदान करता है।

4. आहार संबंधी विचार:

आयुर्वेद आहार और समग्र स्वास्थ्य के बीच संबंध पर जोर देता है। मासिक धर्म के दौरान, गर्म, पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन को संतुलित करने में मदद कर सकता है, जो इस दौरान असंतुलित हो जाता है। पकी हुई सब्जियाँ, साबुत अनाज और आसानी से पचने योग्य प्रोटीन चुनें। ठंडे, कच्चे और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से बचें, क्योंकि ये असुविधा में योगदान कर सकते हैं।

5. योग और ध्यान:

मासिक धर्म के दौरान करें हल्का योग और ध्यान!
मासिक धर्म के दौरान करें हल्का योग और ध्यान!

हल्के योग और ध्यान अभ्यास तनाव को प्रबंधित करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं, जिससे मासिक धर्म के लक्षणों की गंभीरता कम हो सकती है। चाइल्ड पोज़ (बालासन), कैट-काउ (मार्जरीआसन-बिटिलासन), और सुपाइन ट्विस्ट (सुप्त मत्स्येन्द्रासन) जैसे आसन ऐंठन को कम करने और पेल्विक क्षेत्र में रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद कर सकते हैं। माइंडफुलनेस मेडिटेशन को शामिल करने से भावनात्मक तनाव और हार्मोनल असंतुलन को कम किया जा सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now