मधुमेह के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ योग आसन!

5 Best Yoga Asanas For Diabetes!
मधुमेह के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ योग आसन!

योग मधुमेह के प्रबंधन के लिए एक शक्तिशाली और समग्र दृष्टिकोण है, जो एक पुरानी स्वास्थ्य स्थिति है जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करती है। योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करके, आप अपने समग्र स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं, तनाव कम कर सकते हैं और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

मधुमेह प्रबंधन के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ योग आसनों के बारे में यहाँ जाने:-

1. वृक्षासन (वृक्ष मुद्रा):

वृक्षासन एक संतुलन मुद्रा है जो एकाग्रता और संतुलन को बेहतर बनाने में मदद करता है। मधुमेह प्रबंधन के लिए, यह आसन फायदेमंद है क्योंकि यह अग्न्याशय को उत्तेजित करता है, जो रक्त शर्करा के स्तर को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

वृक्षासन करने के लिए:

वृक्षासन (वृक्ष मुद्रा)
वृक्षासन (वृक्ष मुद्रा)

· अपने पैरों को एक साथ रखकर खड़े हो जाएं और अपने सामने एक बिंदु पर ध्यान केंद्रित करें।

· धीरे-धीरे अपना वजन एक पैर पर डालें और अपने दूसरे पैर के तलवे को अपनी आंतरिक जांघ पर रखें।

· अपने हाथों को प्रार्थना की स्थिति में अपनी छाती पर रखें।

· 30 सेकंड से 1 मिनट तक इस मुद्रा में रहें, फिर करवट बदल लें।

2. अर्ध मत्स्येन्द्रासन:

यह बैठा हुआ मोड़ पेट के अंगों की मालिश करने में मदद करता है, जो पाचन में सुधार कर सकता है और अग्न्याशय को उत्तेजित कर सकता है। यह मधुमेह प्रबंधन के लिए एक उत्कृष्ट आसन है।

इसे करने का तरीका:

अर्ध मत्स्येन्द्रासन
अर्ध मत्स्येन्द्रासन

· अपने पैरों को सामने फैलाकर बैठें।

· अपने दाहिने घुटने को मोड़ें और अपने पैर को बाएं पैर के ऊपर से पार करें।

· अपने धड़ को दाईं ओर मोड़ें, अपनी बाईं कोहनी को अपने दाहिने घुटने के बाहर रखें।

· 30 सेकंड से 1 मिनट तक इस मुद्रा में रहें, फिर करवट बदल लें।

3. धनुरासन (धनुष मुद्रा):

धनुरासन अग्न्याशय सहित शरीर के पूरे अग्र भाग को फैलाने में मदद करता है। यह बेहतर इंसुलिन उत्पादन को बढ़ावा देकर इस अंग को उत्तेजित कर सकता है।

धनुरासन करने के लिए:

धनुरासन (धनुष मुद्रा)
धनुरासन (धनुष मुद्रा)

· अपने पेट के बल लेटें और अपनी भुजाएँ बगल में रखें।

· अपने घुटनों को मोड़ें और अपनी एड़ियों को पकड़ने के लिए पीछे पहुँचें।

· अपनी एड़ियों को ऊपर की ओर खींचते हुए अपनी छाती और जांघों को जमीन से ऊपर उठाएं।

· 15-30 सेकंड तक रुकें और छोड़ें।

4. भुजंगासन (कोबरा मुद्रा):

भुजंगासन एक सौम्य बैकबेंड है जो अग्न्याशय के कामकाज को बेहतर बनाने और पेट के अंगों को उत्तेजित करने में मदद कर सकता है।

ये आसन ऐसे करें:

भुजंगासन (कोबरा मुद्रा)
भुजंगासन (कोबरा मुद्रा)

· अपनी हथेलियों को अपने कंधों के नीचे रखते हुए अपने पेट के बल लेटें।

· श्वास लें और अपनी छाती को जमीन से ऊपर उठाएं, अपने निचले शरीर और श्रोणि को फर्श पर रखें।

· 15-30 सेकंड तक रुकें, फिर छोड़ें।

5. शवासन (शव मुद्रा):

शवासन एक विश्राम मुद्रा है जो तनाव को कम करने में मदद कर सकती है, जो मधुमेह प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि तनाव रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकता है। शवासन का अभ्यास करने के लिए:

शवासन (शव मुद्रा)
शवासन (शव मुद्रा)

· अपनी बाहों और पैरों को फैलाकर अपनी पीठ के बल लेटें।

· अपनी आंखें बंद करें और अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें, जिससे आपके शरीर को पूरी तरह से आराम मिल सके।

· इस मुद्रा में 5-10 मिनट तक रहें।

नोट: इन दिए गये योगों को दी गयी तस्वीर द्वारा समझें और अधिक सुरक्षित जानकारी के लिए अपने नजदीकी योग गुरु से मिलें!

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now