5 सामान्य लक्षण जो इंसुलिन प्रतिरोध का संकेत हो सकते हैं!

5 Common Symptoms That Could Be A Sign Of Insulin Resistance!
5 सामान्य लक्षण जो इंसुलिन प्रतिरोध का संकेत हो सकते हैं!

इंसुलिन प्रतिरोध एक ऐसी स्थिति है जहां शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के प्रति ठीक से प्रतिक्रिया नहीं करती हैं, एक हार्मोन जो रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है। यदि इसका इलाज नहीं किया गया तो यह टाइप 2 मधुमेह और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है।

यहां 5 सामान्य लक्षण दिए गए हैं जो इंसुलिन प्रतिरोध का संकेत हो सकते हैं:

1. भूख में वृद्धि:

इंसुलिन कोशिकाओं में ग्लूकोज के अवशोषण को सुविधाजनक बनाकर रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। जब कोशिकाएं इंसुलिन के प्रति प्रतिरोधी हो जाती हैं, तो ग्लूकोज कोशिकाओं में कुशलता से प्रवेश नहीं कर पाता है, जिससे रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। इसके परिणामस्वरूप भूख और लालसा बढ़ सकती है, क्योंकि रक्त शर्करा के ऊंचे स्तर के बावजूद शरीर ऊर्जा की कमी महसूस करता है।

youtube-cover

2. वजन बढ़ना, विशेषकर पेट के आसपास:

इंसुलिन प्रतिरोध अक्सर पेट के मोटापे से जुड़ा होता है। अतिरिक्त वसा, विशेष रूप से पेट के आसपास, इंसुलिन प्रतिरोध में योगदान कर सकती है, जिससे एक चक्र बनता है जहां इंसुलिन प्रतिरोध से वजन बढ़ता है और इसके विपरीत।

3. थकान और ऊर्जा में उतार-चढ़ाव:

जब कोशिकाएं इंसुलिन का विरोध करती हैं, तो ग्लूकोज रक्तप्रवाह में रहता है, जिससे कोशिकाओं में ऊर्जा उत्पादन के लिए इसकी उपलब्धता सीमित हो जाती है। इससे पूरे दिन थकान, सुस्ती और ऊर्जा में उतार-चढ़ाव की भावनाएं हो सकती हैं।

4. बार-बार पेशाब आना और अधिक प्यास लगना:

रक्त शर्करा का स्तर बढ़ने से गुर्दे को अतिरिक्त ग्लूकोज को फ़िल्टर करने और बाहर निकालने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है, जिससे मूत्र उत्पादन में वृद्धि हो सकती है। परिणामस्वरूप, इंसुलिन प्रतिरोध वाले व्यक्तियों को बार-बार पेशाब आने का अनुभव हो सकता है, जो निर्जलीकरण और बढ़ती प्यास में भी योगदान दे सकता है।

बार-बार पेशाब आना!
बार-बार पेशाब आना!

5. ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई और मेंटल फोग:

इंसुलिन प्रतिरोध वाले कुछ व्यक्तियों को ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई, खराब याददाश्त और " मेंटल फोग" का अनुभव हो सकता है। रक्त शर्करा के स्तर में उतार-चढ़ाव संज्ञानात्मक कार्य को प्रभावित कर सकता है, जिससे ये लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
Be the first one to comment