सर्दी में महिलाओं को अधिक होने वाली बीमारियां

सर्दी में महिलाओं को अधिक होने वाली बीमारियां (sportskeeda Hindi)
सर्दी में महिलाओं को अधिक होने वाली बीमारियां (sportskeeda Hindi)

अक्सर लोगों को सर्दियों का मौसम काफी खूबसूरत लगता है। इस मौसम में घूमना-फिरना और धूप सेंकना हर किसी को पसंद होता है। लेकिन कई बार सर्दी का मौसम अपने साथ तरह-तरह की बीमारियां लेकर आता है। ऐसा इसलिए क्योंकि सर्दियों में शरीर की इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है, इसकी वजह से अकसर लोगों को कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। कमजोर इम्यूनिटी का शिकार महिलाओं और बच्चों में अधिक देखी जाती है। तो चलिए, जानते हैं सर्दी में महिलाओं को होने वाली बीमारियां (Common Winter Diseases in Women) -

youtube-cover

सर्दी में महिलाओं को अधिक होने वाली बीमारियां : Common Winter Diseases in Women In Hindi

1 . सर्दी-जुकाम और सिरदर्द की समस्या -

सर्दी का मौसम आते ही महिलाओं को सर्दी-जुकाम और सिरदर्द का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा महिलाओं को गले में खराश और खांसी आदि से भी परेशान होना पड़ता है। ऐसे में आप ठंडी हवाओं से बचने की कोशिश करें। अपने गले को साफ करें और सिर पर कपड़ा बांधकर रखें।

2 . जोड़ों में दर्द होना -

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को जोड़ों के दर्द से अधिक परेशान होना पड़ता है। सर्दियों में तो महिलाओं को जोड़ों का दर्द अधिक परेशान करता है। इससे बचने के लिए आप रोजाना एक्सरसाइज कर सकते हैं।

3 . डिप्रेशन की समस्या -

अक्सर सर्दियों का असर लोगों की मेंटल हेल्थ पर भी पड़ता है। जिसकी वजह से इस मौसम में महिलाओं के सोने और जागने का चक्र बिगड़ जाता है। इसका असर उनके मानसिक स्वास्थ्य (mental health) पर पड़ सकता है। इससे बचने के लिए आप खुश और तनाव मुक्त रहने की कोशिश करें।

4 . निमोनिया -

महिलाओं को सर्दियों में निमोनिया (pneumonia) का सामना भी करना पड़ सकता है। इस स्थिति में महिलाओं में कफ, फीवर जैसे लक्षण दिख सकते हैं। इसके अलावा सर्दियों में महिलाओं में हृदय रोग और फेफड़ों का रोग भी हो सकता है।

5 . इंफेक्शन

सर्दियों में तरह-तरह के बैक्टीरिया और वायरस पनपने लगते हैं। ये बैक्टीरिया महिलाओं में इंफेक्शन (Infection) का कारण बन सकते हैं। महिलाओं को वजाइनल इंफेक्शन, ईयर इंफेक्शन के लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan