सरसों के तेल से हो सकते हैं ये 5 नुकसान

सरसों के तेल से हो सकते हैं ये 5 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
सरसों के तेल से हो सकते हैं ये 5 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

सरसों का तेल दुनिया के कई हिस्सों में आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला तेल है, खासकर दक्षिण एशियाई देशों में। यह सरसों के पौधे के बीज से प्राप्त होता है और इसमें तीखा स्वाद और तेज सुगंध होती है। जहां सरसों के तेल के कई स्वास्थ्य लाभ हैं, वहीं इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जिनसे लोगों को अवगत होने की आवश्यकता है। इस लेख में हम सरसों के तेल के उपयोग से होने वाले कुछ नुकसानों के बारे में चर्चा करेंगे।

सरसों के तेल से हो सकते हैं ये 5 नुकसान (5 Disadvantages Of Mustard Oil In Hindi)

1. इरूसिक एसिड में उच्च (High in erucic acid)

सरसों के तेल में इरूसिक एसिड की मात्रा अधिक होती है, जिसका अधिक मात्रा में सेवन हानिकारक हो सकता है। इरूसिक एसिड को हृदय रोग से जोड़ा गया है और यह हृदय में वसा के जमाव का कारण भी बन सकता है। शोध के अनुसार, इरुसिक एसिड से हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है और हृदय की मांसपेशियों को नुकसान हो सकता है।

2. कुछ चिकित्सीय स्थितियों वाले लोगों के लिए उपयुक्त नहीं (Not suitable for people with certain medical conditions)

सरसों का तेल हृदय रोग, उच्च रक्तचाप या गुर्दे की समस्याओं जैसी कुछ चिकित्सीय स्थितियों वाले लोगों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह रक्तचाप बढ़ा सकता है और गुर्दे को अधिक मेहनत करने का कारण बन सकता है। इन स्थितियों वाले लोगों को सरसों के तेल का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

3. त्वचा में जलन हो सकती है (May cause skin irritation)

सरसों का तेल अक्सर मालिश और बालों के तेल के रूप में प्रयोग किया जाता है, लेकिन यह कुछ लोगों में त्वचा की जलन पैदा कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह एक गर्म तेल है और त्वचा पर लगाने पर जलन पैदा कर सकता है। किसी भी प्रतिकूल प्रतिक्रिया से बचने के लिए त्वचा पर सरसों के तेल का उपयोग करने से पहले पैच टेस्ट करना जरूरी है।

4. सांस की समस्या हो सकती है (Can cause respiratory problems)

खाना पकाने के लिए सरसों के तेल का उपयोग करने से कुछ लोगों में सांस की समस्या हो सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें एलिल आइसोथियोसाइनेट होता है, जो वायुमार्ग में जलन पैदा कर सकता है और खांसी और सांस लेने में कठिनाई पैदा कर सकता है। अस्थमा या सांस की अन्य समस्याओं से पीड़ित लोगों को खाना पकाने के लिए सरसों के तेल के इस्तेमाल से बचना चाहिए।

5. शिशुओं के लिए उपयुक्त नहीं (Not suitable for infants)

शिशुओं के लिए सरसों के तेल का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे त्वचा में जलन और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। सरसों के तेल में इरुसिक एसिड की उच्च मात्रा शिशुओं में हृदय रोग और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है। शिशुओं के लिए नारियल या जैतून के तेल जैसे अन्य तेलों का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

निष्कर्ष के तौर पर, जहां सरसों के तेल के कई स्वास्थ्य लाभ हैं, वहीं इसके नुकसान के बारे में पता होना भी जरूरी है। इसे कम मात्रा में उपयोग करना महत्वपूर्ण है और यदि आपको कोई चिकित्सीय स्थिति है तो इसका उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करें। शिशुओं और सांस की समस्या वाले लोगों को सरसों के तेल से बचना चाहिए। किसी भी प्रतिकूल प्रतिक्रिया से बचने के लिए त्वचा पर सरसों के तेल का उपयोग करने से पहले पैच टेस्ट करना भी महत्वपूर्ण है। कुल मिलाकर सरसों के तेल के इस्तेमाल से पहले इसके संभावित नुकसान के बारे में जानकारी होना जरूरी है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now