40 की उम्र के बाद कैलोरी बर्न करने के 5 असरदार तरीके!

5 Effective Ways To Burn Calories After 40s!
40 की उम्र के बाद कैलोरी बर्न करने के 5 असरदार तरीके!

जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारा चयापचय धीमा हो जाता है, जिससे स्वस्थ वजन बनाए रखना थोड़ा अधिक चुनौतीपूर्ण हो जाता है। हालाँकि, सक्रिय रहना और सोच-समझकर जीवनशैली चुनना 40 की उम्र के बाद भी कैलोरी जलाने को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। इसलिए आज हम कैलोरी जलाने और स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखने के पांच प्रभावी तरीकों के बारे में यहाँ विस्तार से जानेंगे।

निम्नलिखित इन 5 असरदार तरीकों के बारे में यहाँ जाने:

1. शक्ति प्रशिक्षण अपनाएं:

अपने चयापचय को बढ़ाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है अपनी फिटनेस दिनचर्या में शक्ति प्रशिक्षण को शामिल करना। जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारी मांसपेशियाँ कम होने लगती हैं, जो सुस्त चयापचय में योगदान कर सकती हैं। प्रतिरोध प्रशिक्षण जैसी गतिविधियों में संलग्न होकर, आप मांसपेशियों का निर्माण और रखरखाव कर सकते हैं, जो चयापचय दर को बढ़ा सकते हैं।

youtube-cover

2. पूरे दिन सक्रिय रहें:

पूरे दिन सक्रिय रहकर अपने दैनिक जीवन में अधिक गतिशीलता को शामिल करें। थोड़ी देर टहलें, लिफ्ट के बजाय सीढ़ियों का उपयोग करें और फोन पर बात करते समय खड़े रहें। ये सरल गतिविधियाँ छोटी लग सकती हैं, लेकिन ये बढ़ती हैं और कुल कैलोरी व्यय में योगदान करती हैं। फिटनेस ट्रैकर में निवेश करने से आपको अपने दैनिक कदमों की निगरानी करने और सक्रिय रहने के लिए प्रेरित करने में मदद मिल सकती है।

3. HIIT वर्कआउट:

हाई-इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग (HIIT) कैलोरी जलाने का एक समय-कुशल और प्रभावी तरीका है। इस प्रकार के वर्कआउट में थोड़े समय के लिए तीव्र गतिविधि शामिल होती है जिसके बाद कुछ समय के लिए आराम या कम तीव्रता वाला व्यायाम किया जाता है। HIIT न केवल आपको वर्कआउट के दौरान कैलोरी जलाने में मदद करता है, बल्कि यह "आफ्टरबर्न" प्रभाव भी पैदा करता है, जहां आपका शरीर सत्र के बाद घंटों तक कैलोरी जलाता रहता है।

4. नींद को प्राथमिकता दें:

नींद को प्राथमिकता दें!
नींद को प्राथमिकता दें!

पर्याप्त और गुणवत्तापूर्ण नींद लेना समग्र स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है और यह कुशलतापूर्वक कैलोरी जलाने की आपकी क्षमता को प्रभावित कर सकता है। नींद की कमी को भूख बढ़ाने वाले हार्मोन में वृद्धि और तृप्ति को नियंत्रित करने वाले हार्मोन में कमी से जोड़ा गया है, जिससे अधिक खाने और वजन बढ़ने लगता है।

5. ध्यानपूर्वक भोजन करना:

आप क्या और कैसे खाते हैं, इस पर ध्यान दें। माइंडफुल ईटिंग में भोजन के दौरान मौजूद रहना, प्रत्येक टुकड़े का स्वाद लेना और अपने शरीर की भूख और परिपूर्णता के संकेतों को सुनना शामिल है। टीवी देखने या इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग करने जैसे ध्यान भटकाने से बचने से अधिक खाने से बचने में मदद मिल सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा