Create

डार्क चॉकलेट के सेवन से शरीर पर पड़ सकते हैं सकारात्मक प्रभाव, जानिए 5 फायदे - Health Benefits Of Consuming Dark Chocolate

डार्क चॉकलेट के सेवन से शरीर पर पड़ सकते हैं सकारात्मक प्रभाव, जानिए 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)
डार्क चॉकलेट के सेवन से शरीर पर पड़ सकते हैं सकारात्मक प्रभाव, जानिए 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

डार्क चॉकलेट (Dark chocolate) आयरन, मैग्नीशियम और जिंक जैसे मिनरल्स से भरपूर होती है। डार्क चॉकलेट में मौजूद कोकोआ (cocoa) में फ्लेवोनोइड्स (flavonoids) नामक एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं, जो कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकते हैं। चॉकलेट कोकोआ से आता है, एक पौधा जिसमें उच्च स्तर के मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। कमर्शियल मिल्क चॉकलेट में कोकोआ मक्खन, चीनी, दूध और कोको की थोड़ी मात्रा होती है। इसके विपरीत, डार्क चॉकलेट में मिल्क चॉकलेट की तुलना में बहुत अधिक मात्रा में कोकोआ और चीनी कम होती है। हम डार्क चॉकलेट के कुछ संभावित स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानेंगे। यह लेख डार्क चॉकलेट के सेवन से मिलने वाले फायदों के बारे में है।

डार्क चॉकलेट के सेवन से शरीर पर पड़ सकते हैं सकारात्मक प्रभाव, जानिए 5 फायदे - Health Benefits Of Consuming Dark Chocolate In Hindi

1. चॉकलेट हृदय रोगों को रोकता है (prevents heart diseases)

हृदय रोग विश्व स्तर पर मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक हैं। इस बीमारी में योगदान देने वाले सबसे आम कारक उच्च स्तर के कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप हैं। कुछ महामारी विज्ञान के प्रमाण बताते हैं कि फल और सब्जियां फ्लेवोनोइड्स से भरपूर होती हैं और हृदय रोग को रोकने के लिए बहुत अच्छी होती हैं। इसी तरह, कोको में फ्लेवोनोइड्स की विशाल सामग्री भी हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए सिद्ध हुई है।

2. सेल क्षति को रोकता है (resists cell damage)

डार्क चॉकलेट एंटीऑक्सीडेंट का एक समृद्ध स्रोत है। एंटीऑक्सीडेंट मुक्त कणों को बेअसर करते हैं और ऑक्सीडेटिव तनाव को रोकते हैं, जिससे हमारी सेल्स को नुकसान नहीं पहुंचता है।

3. डिप्रेशन का इलाज करे (treat depression)

इसे खाने से जुड़े आनंद के अलावा, डार्क चॉकलेट को डिप्रेशन के खतरे को कम करने से भी जोड़ा जाता है। यह देखा गया है कि प्रतिदिन 24 ग्राम या उससे कम डार्क चॉकलेट का सेवन करने से लोगों पर एंटीडिप्रेससेंट (antidepressant) प्रभाव पड़ सकता है। यह फ्लेवोनोइड्स (मनोदशा में सुधार के लिए जाना जाता है), थियोब्रोमाइन (ऊर्जा प्रदान करता है), एन-एसीलेथेनॉलमाइन्स (फैटी एसिड जिसमें उत्साहपूर्ण प्रभाव होता है) और फेनिलथाइलामाइन (ट्रिगर डोपामाइन) की संयुक्त उपस्थिति के साथ, डिप्रेशन से राहत दे सकता है।

4. मधुमेह के खिलाफ काम करे (works against diabetes)

डार्क चॉकलेट में पॉलीफेनोल्स (polyphenols) होते हैं, जो एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला यौगिक है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो इंसुलिन प्रतिरोध में सुधार करते हैं। यह बदले में टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा (blood sugar) को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

5. वजन घटाने में सहायक (aids in weight loss)

मध्यम मात्रा में डार्क चॉकलेट खाने से वजन घटाने की प्रक्रिया में मदद मिल सकती है। इसमें मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (monounsaturated fatty acids) होता है जो मेटाबॉलिज्म में सुधार करता है और तेजी से कैलोरी बर्न करता है। इसके अलावा, खाने से 20 मिनट पहले डार्क चॉकलेट का सेवन खाने की क्रेविंग को कम करता है। डार्क चॉकलेट में मौजूद मैग्नीशियम और एंटीऑक्सीडेंट दर्द से राहत देते हैं और इस तरह व्यक्ति को कसरत (exercise) करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वजन कम करने के लिए संघर्ष कर रहे लोगों के लिए यह एक अतिरिक्त लाभ हो सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...