छठ पूजा में दिए जाने वाले सुपरफूड्स के 5 स्वास्थ्य लाभ!

5 Health Benefits of Superfoods Offered In Chhath Puja!
छठ पूजा में दिए जाने वाले सुपरफूड्स के 5 स्वास्थ्य लाभ!

छठ पूजा एक पारंपरिक हिंदू त्योहार है जो सूर्य देव और छठी मैया की पूजा के लिए समर्पित है। अपने धार्मिक महत्व के अलावा, यह त्योहार पौष्टिक और पौष्टिक सुपरफूड्स के लिए भी जाना जाता है जो छठ पूजा अनुष्ठानों का एक अभिन्न अंग हैं। ये सुपरफूड न केवल पारंपरिक अनुष्ठानों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं बल्कि कई स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करते हैं।

छठ पूजा से जुड़े सुपरफूड्स के 5 स्वास्थ्य लाभों के बारे में यहाँ जानें:-

1. चावल: ऊर्जा का एक समृद्ध स्रोत

छठ पूजा के दौरान मुख्य प्रसाद 'खीर' या मीठे चावल हैं। चावल एक जटिल कार्बोहाइड्रेट है जो ऊर्जा की निरंतर रिहाई प्रदान करता है। यह शरीर के लिए ईंधन के एक उत्कृष्ट स्रोत के रूप में कार्य करता है, त्योहार के दौरान मनाए जाने वाले कठोर उपवास और अनुष्ठानों के दौरान सहनशक्ति को बढ़ावा देता है।

चावल: ऊर्जा का एक समृद्ध स्रोत!
चावल: ऊर्जा का एक समृद्ध स्रोत!

2. पोषण का पावरहाउस - सत्तू

भुना हुआ बेसन सत्तू, छठ पूजा के दौरान मुख्य भोजन है। प्रोटीन, फाइबर और आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर, सत्तू मांसपेशियों की ताकत बनाए रखने में सहायता करता है और तृप्ति की भावना को बढ़ावा देता है। इसकी उच्च फाइबर सामग्री पाचन स्वास्थ्य का भी समर्थन करती है, कब्ज जैसी समस्याओं को रोकती है।

3. केले: प्रकृति की ऊर्जा बार्स

छठ पूजा के दौरान और केले एक आम प्रसाद है। इनमें पोटैशियम प्रचुर मात्रा में होता है, जो रक्तचाप को नियंत्रित करने और हृदय के समुचित कार्य को बनाए रखने में मदद करता है। केले भी एक सुविधाजनक नाश्ता है जो त्वरित ऊर्जा प्रदान करता है, जो उन्हें उपवास अवधि के लिए आदर्श बनाता है।

4. नारियल पानी: जलयोजन और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन

नारियल पानी एक हाइड्रेटिंग पेय है जो छठ पूजा अनुष्ठानों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इलेक्ट्रोलाइट्स से भरपूर, यह शरीर में द्रव संतुलन बनाए रखने में मदद करता है, निर्जलीकरण को रोकता है। नारियल पानी में कैलोरी कम होती है और इसमें आवश्यक पोषक तत्व होते हैं, जो इसे शर्करा युक्त पेय का एक स्वस्थ विकल्प बनाता है।

नारियल पानी: जलयोजन और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन!
नारियल पानी: जलयोजन और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन!

5. हल्दी का स्पर्श

हल्दी, जिसे अक्सर छठ पूजा अनुष्ठानों में उपयोग किया जाता है, अपने सूजन-रोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जानी जाती है। इसमें करक्यूमिन होता है, एक बायोएक्टिव यौगिक जिसे विभिन्न स्वास्थ्य लाभों से जोड़ा गया है, जिसमें बेहतर प्रतिरक्षा समारोह और पुरानी बीमारियों का कम जोखिम शामिल है। उत्सव के प्रसाद में हल्दी शामिल करने से उत्सव में औषधीय स्पर्श जुड़ जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा