वैक्सिंग के बाद होने वाले रैशेज से छुटकारा पाने के 5 घरेलू उपाय!

5 Home Remedies To Get Rid Of Rashes Post Waxing!
वैक्सिंग के बाद होने वाले रैशेज से छुटकारा पाने के 5 घरेलू उपाय!

अनचाहे बालों को हटाने के लिए वैक्सिंग एक अच्छा तरीका है, लेकिन कभी-कभी इससे त्वचा पर चकत्ते और जलन हो सकती है। ये चकत्ते असुविधाजनक और भद्दे हो सकते हैं। ऐसे कई घरेलू उपचार हैं जो वैक्सिंग के बाद होने वाली असुविधा और लालिमा को कम करने में मदद कर सकते हैं।

वैक्सिंग के बाद होने वाले रैशेज से छुटकारा पाने के लिए इन 5 प्रभावी घरेलू उपचारों का प्रयोग करें:-

1. एलोवेरा जेल:

एलोवेरा अपने सुखदायक और उपचार गुणों के लिए प्रसिद्ध है। वैक्सिंग के बाद प्रभावित क्षेत्र पर शुद्ध एलोवेरा जेल की एक पतली परत लगाएं। एलोवेरा त्वचा की प्राकृतिक उपचार प्रक्रिया को बढ़ावा देते हुए लालिमा, सूजन और खुजली को कम करने में मदद करता है। यह त्वचा को नमी भी देता है, जिससे त्वचा तरोताजा महसूस होती है।

youtube-cover

2. ठंडा सेक:

एक सरल और आसानी से उपलब्ध उपाय ठंडी सिकाई है। एक साफ कपड़े में कुछ बर्फ के टुकड़े लपेटें और धीरे-धीरे इसे कुछ मिनटों के लिए वैक्स वाली जगह पर लगाएं। ठंड सूजन को कम करने में मदद करती है और त्वचा को आराम देती है, जिससे जलन से तुरंत राहत मिलती है।

3. ओटमील पेस्ट:

वैक्सिंग के बाद होने वाले रैशेज के लिए ओटमील एक प्राकृतिक उपचार है। सादे, बिना पके ओटमील को पीसकर बारीक पाउडर बना लें और इसमें थोड़ा सा पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। पेस्ट को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और ठंडे पानी से धोने से पहले इसे लगभग 20 मिनट तक लगा रहने दें। ओटमील के सूजन-रोधी गुण त्वचा को शांत करने और जलन को कम करने में मदद करते हैं।

4. नारियल का तेल:

नारियल का तेल अपने मॉइस्चराइजिंग और जीवाणुरोधी गुणों के लिए जाना जाता है, जो इसे वैक्सिंग के बाद के चकत्तों से राहत दिलाने के लिए एक आदर्श विकल्प बनाता है। त्वचा को नमी देने और लालिमा को कम करने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर वर्जिन नारियल तेल की एक पतली परत लगाएं। नारियल का तेल संक्रमण को रोकने में भी मदद करता है और त्वचा को मुलायम और कोमल बनाए रखता है।

नारियल का तेल!
नारियल का तेल!

5. टी ट्री ऑयल:

टी ट्री ऑयल एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट है जो वैक्सिंग से होने वाले चकत्तों के इलाज में मदद कर सकता है। त्वचा की जलन से बचने के लिए चाय के पेड़ के तेल की कुछ बूंदों को वाहक तेल (जैसे नारियल या जैतून का तेल) के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को कॉटन बॉल की मदद से प्रभावित जगह पर लगाएं। टी ट्री ऑयल बैक्टीरिया से लड़ने, सूजन को कम करने और उपचार को बढ़ावा देने में मदद करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।