5 कारण जिनकी वजह से आपको हर दिन सूर्य नमस्कार करना चाहिए!

5 Reasons Why You Should Perform Surya Namaskar Every Day!
5 कारण जिनकी वजह से आपको हर दिन सूर्य नमस्कार करना चाहिए!

सूर्य नमस्कार, दुनिया भर में लोकप्रिय योग है जो मुद्राओं और साँस लेने के व्यायामों की एक श्रृंखला को जोड़ता है। प्राचीन काल से प्रचलित, सूर्य नमस्कार योग में अत्यधिक महत्व रखता है और आपके शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक कल्याण के लिए कई लाभ प्रदान करता है। इस दिनचर्या को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने से सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं जो आपके समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाएंगे। यहां कुछ अनिवार्य कारण बताए गए हैं कि क्यों आपको हर दिन सूर्य नमस्कार करने पर विचार करना चाहिए:

निम्नलिखित 5 कारणों को आप यहाँ जाने सकते हैं:-

1. आपके शरीर को ऊर्जावान बनाता है:

सूर्य नमस्कार में योग मुद्राओं का एक प्रवाहपूर्ण क्रम शामिल होता है जो आपके शरीर की विभिन्न मांसपेशियों को खींचता, लचीला और टोन करता है। ये एक सौम्य हृदय संबंधी कसरत होती है, जिससे विभिन्न अंगों में रक्त प्रवाह और ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ती है। यह आपके शरीर को पुनर्जीवित करता है, जिससे आप ऊर्जावान महसूस करते हैं और दिन से निपटने के लिए तैयार हो जाते हैं।

youtube-cover

2. लचीलेपन में सुधार:

सूर्य नमस्कार में प्रत्येक आसन विभिन्न मांसपेशी समूहों और जोड़ों को लक्षित करता है, जिससे लचीलेपन को बढ़ावा मिलता है। नियमित अभ्यास से धीरे-धीरे आपके शरीर के लचीलेपन में सुधार हो सकता है, जिससे रोजमर्रा की गतिविधियां आसान हो जाएंगी और चोटों का खतरा कम हो जाएगा। लचीली मांसपेशियाँ और जोड़ भी अच्छी मुद्रा और समग्र शरीर संतुलन बनाए रखने में योगदान करते हैं।

3. मानसिक स्पष्टता बढ़ाता है:

सूर्य नमस्कार केवल शारीरिक गतिविधियों के बारे में नहीं है; इसमें नियंत्रित श्वास भी शामिल है। आसन और लयबद्ध श्वास का संयोजन आपके दिमाग को शांत करने, तनाव कम करने और एकाग्रता में सुधार करने में मदद करता है। यह मानसिक स्पष्टता आपकी निर्णय लेने की क्षमताओं और समग्र संज्ञानात्मक कार्य पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकती है।

4. हार्मोन्स को संतुलित करता है:

सूर्य नमस्कार में विभिन्न खिंचाव और गतिविधियां तंत्र को उत्तेजित करती हैं, जो विभिन्न शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करने वाले हार्मोन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है। नियमित अभ्यास से हार्मोनल स्राव को संतुलित करने, बेहतर चयापचय, पाचन और भावनात्मक कल्याण में योगदान करने में मदद मिल सकती है।

5. अध्यात्म से जोड़ता है:

 सूर्य नमस्कार!
सूर्य नमस्कार!

योग दर्शन में सूर्य नमस्कार का गहरा आध्यात्मिक महत्व है। यह अभ्यास अक्सर उगते या डूबते सूरज की ओर मुंह करके किया जाता है, जो ब्रह्मांड के प्रति कृतज्ञता और संबंध का प्रतीक है। प्रतिदिन इस दिनचर्या में शामिल होने से सचेतनता की भावना पैदा हो सकती है, जो आपको वर्तमान क्षण में स्थापित कर सकती है और आपके आंतरिक स्व के साथ गहरे संबंध को बढ़ावा दे सकती है।

शुरू करना:

यदि आप सूर्य नमस्कार में नए हैं, तो कुछ राउंड से शुरुआत करें और धीरे-धीरे संख्या बढ़ाएं क्योंकि आपका शरीर अभ्यास का आदी हो जाता है। प्रत्येक चक्र में 12 आसन होते हैं और इस क्रम को कई बार दोहराने से इसके लाभ बढ़ सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now