Create

वच के 5 उपयोग और 5 फायदे : Vach Ke 5 Upyog Aur 5 Fayde

वच के 5 उपयोग और 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)
वच के 5 उपयोग और 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)

वच (Sweet Flag) एक पौधा है जो अपने औषधीय गुणों के कारण मशहूर है। वच की जड़ से अनेक फायदे होते हैं। वच को एकरस कैलमेस (Acorus calamus) भी कहा जाता है। आयुर्वेदिक उपचार के लिए वच का उपयोग किया जा सकता है। वच के सेवन से गैस की समस्या, मिर्गी, कफ, पेट संबंधित रोग और गठिया आदि में लाभ मिलते हैं। वच के फायदे शारीरिक समस्याओं से बचाव करने में उपयोगी हैं।। इस लेख के माध्यम से वच के उपयोग और फायदे बताये गए हैं। आइये इस विषय पर और जानकारी प्राप्त करें।

वच के 5 उपयोग और 5 फायदे

वच के उपयोग : Uses Of Sweet Flag In Hindi

वच (Vach) का इस्तेमाल कई प्रकार से किया जा सकता है। इन उपयोगो से आप इसके लाभ ले सकते हैं।

1. वच को पाउडर की तरह सेवन किया जा सकता है।

2. वच के पत्तों को भी चबाकर खाया जा सकता है।

3. वच की घास को कुछ देर मुँह में रखकर खाया जा सकता है।

4. वच चूर्ण को शहद के साथ खाया जा सकता है, इससे इसका सेवन आसानी से किया जा सकता है।

5. वच को पीसकर इसका लेप त्वचा पर लगा सकते हैं।

वच के फायदे : Benefits Of Sweet Flag In Hindi

1. वच अपने वात संतुलन प्रकृति गुणों के कारण पेट में गैस के संचय को कम करने में मदद करता है। यह पाचक शक्ति को बढ़ाता है जो भोजन को आसानी से पचाने में मदद करता है और पेट में अत्यधिक गैस बनने से रोकता है।

2. वच पाचन में सुधार करके पेट के अल्सर के खतरे को कम करने में मदद करता है। यह इसके भूख बढ़ाने वाले और पाचक गुणों के कारण है। यह भोजन को आसानी से पचाने में मदद करता है और गैस्ट्रिक जूस के अत्यधिक स्राव को भी नियंत्रित करता है।

3. वच का तेल एक प्राकृतिक कीटनाशक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है और यह गुण इसे जूँ को मारने में प्रभावी बनाता है। यह बाहरी अनुप्रयोग के लिए सुरक्षित है और त्वचा पर कोमल है, इसलिए इसे खोपड़ी पर लगाने से कोई नुकसान नहीं होता है। स्वीट फ्लैग जूँ से छुटकारा पाने के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक घटक है।

4. सर्दी को शांत करने के लिए वच बहुत अच्छा काम करता है। यह खांसी और गले में खराश का इलाज करता है। वच का एक छोटा सा टुकड़ा चूसने से इन समस्याओं से राहत मिलती है। जिन बच्चों को बोलने में देरी होती है, वे भी इस चमत्कारी जड़ी बूटी से लाभान्वित हो सकते हैं क्योंकि यह उन्हें उचित उम्र से बोलने और संवाद करने में मदद करती है।

5. वच नसों को शांत करने के लिए जाना जाता है और व्यक्ति की याददाश्त में सुधार करने में मदद करता है। साथ ही वच की जड़ को उबलते गर्म पानी में भिगोकर सेवन करने से मिर्गी से पीड़ित लोगों को फायदा मिल सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment