मस्तिष्क की शक्ति और याददाश्त बढ़ाने के लिए 5 योगिक श्वास व्यायाम!

5 Yogic Breathing Exercises To Boost Brain Power And Memory
मस्तिष्क की शक्ति और याददाश्त बढ़ाने के लिए 5 योगिक श्वास व्यायाम!

इतनी व्यस्त दिनचर्या के कारण तनाव और मस्तिष्क की शक्ति और याददाश्त में गिरावट आती है। योग का प्राचीन अभ्यास साँस लेने के व्यायाम, जिसे प्राणायाम के रूप में जाना जाता है, के माध्यम से मानसिक क्षमताओं को बढ़ाने के लिए एक समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है। ये योगिक श्वास तकनीकें मन को शांत करने, तनाव कम करने और मस्तिष्क की शक्ति और याददाश्त को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं।

निम्नलिखित इन 5 आसान योगिक श्वास अभ्यास के बारे में आप यहाँ पढ़ सकते हैं:-

गहरी पेट से साँस लेना (डायाफ्रामिक साँस लेना):

आरामदायक स्थिति में बैठने या लेटने से शुरुआत करें। एक हाथ अपनी छाती पर और दूसरा अपने पेट पर रखें। अपनी नाक से धीरे-धीरे सांस लें, अपने फेफड़ों को हवा से भरते हुए अपने पेट को ऊपर उठने दें। अपने पेट को नीचे महसूस करते हुए, अपनी नाक से धीरे से सांस छोड़ें। यह तकनीक मस्तिष्क में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाती है, मानसिक स्पष्टता और फोकस को बढ़ावा देती है।

youtube-cover

वैकल्पिक नासिका श्वास (नाड़ी शोधन):

आरामदायक स्थिति में पालथी मारकर बैठें। अपने दाहिने अंगूठे से अपनी दाहिनी नासिका बंद करें और अपनी बायीं नासिका से गहरी सांस लें। अपनी दाहिनी अनामिका से अपनी बाईं नासिका को बंद करें, अपनी दाहिनी नासिका को छोड़ें और साँस छोड़ें। दाहिनी नासिका से सांस लें, उसे बंद करें और बाईं ओर से सांस छोड़ें। यह वैकल्पिक साँस लेने की तकनीक मस्तिष्क के दोनों गोलार्द्धों को संतुलित करती है, संज्ञानात्मक कार्य और स्मृति को बढ़ाती है।

मधुमक्खी श्वास (भ्रामरी प्राणायाम):

आराम से बैठें और अपनी आँखें बंद कर लें। धीरे से अपनी तर्जनी उंगलियों को अपनी बंद पलकों पर रखें, अपनी मध्यमा उंगलियों को अपनी भौंहों के ठीक ऊपर और अपनी बाकी उंगलियों को अपने कानों पर रखें। अपनी नाक से गहरी सांस लें और जैसे ही आप सांस छोड़ें, मधुमक्खी की तरह गुंजन की आवाज निकालें। यह सुखदायक अभ्यास मन को शांत करता है, तनाव कम करता है और एकाग्रता में सुधार करता है।

कपालभाति:

आंखें बंद करके सीधे बैठ जाएं। गहरी सांस लें, फिर अपने पेट की मांसपेशियों को सिकोड़कर जोर से सांस छोड़ें। जैसे ही आप संकुचन छोड़ेंगे, श्वास स्वाभाविक रूप से घटित होगी। कुछ राउंड से शुरुआत करें और धीरे-धीरे गति बढ़ाएं। यह तकनीक मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती है, आपके दिमाग को तरोताजा करती है और मानसिक चपलता को बढ़ाती है।

ठंडी साँसें (शीतली प्राणायाम):

ठंडी साँसें (शीतली प्राणायाम)!
ठंडी साँसें (शीतली प्राणायाम)!

आरामदायक स्थिति में बैठें। यदि आप अपनी जीभ को घुमा नहीं सकते तो अपनी जीभ को एक ट्यूब के आकार में घुमाएँ या अपने होठों को सिकोड़ लें। अपनी घुमाई हुई जीभ या सिकुड़े हुए होठों से धीरे-धीरे और गहरी सांस लें, फिर अपना मुंह बंद करें और अपनी नाक से सांस छोड़ें। इस अभ्यास का तंत्रिका तंत्र पर शीतलन प्रभाव पड़ता है, विश्राम को बढ़ावा मिलता है, और तनाव से संबंधित मस्तिष्क कोहरे को कम किया जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now