दूध में घी के सेवन से मिलते हैं ये 6 बेहतरीन फायदे

दूध में घी के सेवन से मिलते हैं ये 6 बेहतरीन फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
दूध में घी के सेवन से मिलते हैं ये 6 बेहतरीन फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

गाय का घी (Ghee) और दूध (Milk) कई फायदों से भरपूर सुपरफूड माना जाता हैं। ये दोनों हमारे लिए पोषक तत्वों और अच्छे स्वास्थ्य के समृद्ध स्रोत हैं। जबकि घी दूध से प्राप्त होता है, आप दूध में घी मिला सकते हैं और इस शक्तिशाली स्वास्थ्य बूस्टर को पी सकते हैं। दूध में कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम, जिंक, प्रोटीन, आयरन, सेलेनियम, नियासिन, राइबोफ्लेविन और थियामिन होता है। इसमें विटामिन A, D, B6, E और K भी होते हैं। दूसरी ओर घी में फैट में घुलनशील विटामिन A, D, E और K होते हैं। इसमें ब्यूटिरिक एसिड, DHA (डोकोसाहेक्सैनोइक एसिड, एक ओमेगा-3 फैटी एसिड) और CLA (संयुग्मित लिनोलिक एसिड, एक ओमेगा-6 फैटी एसिड) होता है। प्राचीन आयुर्वेद रात में दूध के साथ देसी घी लेने के फायदे बताता है। यह एक अविश्वसनीय उपचार मिश्रण है, जो कई स्वास्थ्य समस्याओं का ख्याल रखता है और कई अन्य के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करता है। आइए दूध के साथ घी लेने के फायदों का विश्लेषण करते हैं।

youtube-cover

दूध में घी के सेवन से मिलते हैं ये 6 बेहतरीन फायदे (6 Benefits Of Consuming Ghee In Milk In Hindi)

1. पाचन शक्ति में सुधार करता है और मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है (Improves Digestive Strength and Boosts Metabolism)

घी-दूध का कॉम्बो मानव शरीर में पाचन एंजाइमों के स्राव को प्रेरित करता है जो जटिल खाद्य कणों को तोड़ने में मदद करता है। यह पाचन को गति देता है और मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है। यह वजन प्रबंधन और वजन घटाने में भी मदद करता है! कब्ज से पीड़ित लोगों को इस उपाय से राहत मिलती है। घास चरने वाली गायों से प्राप्त घी और गर्म दूध के साथ लेने से पुरानी कब्ज के लिए एक प्राकृतिक औषधि है।

2. जोड़ों के दर्द से राहत (Relief from Joint Pains)

घी जोड़ों को चिकना बनाता है और उनमें सूजन और जलन कम करता है। इसमें ब्यूटिरेट, ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड होते हैं, जो सभी सूजन और दर्द को कम करते हैं। दूध में कैल्शियम होता है, जो हड्डियों के लिए जरूरी होता है। अगर दूध में घी डाला जाता है, तो घी में मौजूद विटामिन K2 दूध से कैल्शियम के अवशोषण में मदद करेगा। इसीलिए आयुर्वेद में दूध-घी का कॉम्बिनेशन जोड़ों के दर्द के लिए फायदेमंद माना जाता है और जोड़ों की अकड़न के लिए यह एक बेहतरीन उपाय है।

3. इम्यूनिटी बूस्टर और हर्टबर्न से राहत (Immunity Booster and Respite From Heartburn)

गुनगुने दूध के साथ एक चम्मच गाय का घी अल्सर और एसिडिटी की जलन को कम करने में मदद करता है। एक प्राकृतिक रेचक के रूप में, देसी घी पाचन तंत्र से विषाक्त पदार्थों को खत्म करता है, शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करता है और प्राकृतिक शक्ति को पुनर्स्थापित करता है। प्रतिरक्षा ज्यादातर आंत पर निर्भर करती है। चूंकि घी और दूध आंतों के लिए फायदेमंद होते हैं, इसलिए घी-दूध का मिश्रण इम्युनिटी के लिए शानदार है।

4. चमकती और स्वस्थ त्वचा के लिए (For Glowing and Healthy Skin)

बढ़ते प्रदूषण और तनाव के कारण अक्सर त्वचा में रूखापन, रूखापन या धब्बेदार रंगत का अनुभव होता है। घी, साथ ही दूध, उनके मॉइस्चराइजिंग गुणों के लिए जाने जाते हैं। त्वचा को हाइड्रेट करने और उसकी चमक वापस लाने के लिए हल्दी वाले दूध में घी डालने की सलाह दी जाती है। यह कॉम्बिनेशन शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालकर त्वचा पर होने वाले फोड़े-फुंसियों और पिंपल्स को ठीक करने में भी मदद करता है। यह एक्जिमा जैसी त्वचा की समस्याओं के लिए भी मददगार है।

5. मानसिक क्षमता में सुधार करता है और तनाव से राहत देता है (Improves Mental Capability And Relieves Stress)

घी विटामिन, पोषक तत्वों और डीएचए से भरपूर होता है, जो मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। दूध मस्तिष्क में ग्लूटाथियोन को बढ़ाता है, जो ऑक्सीडेटिव तनाव से लड़ता है। जहां घी में मौजूद सीएलए अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है और खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, वहीं दूध में मौजूद ट्रिप्टोफैन सेरोटोनिन में बदल जाता है, जो नसों को आराम देता है। यह सुपरफूड मिक्स तनाव दूर करने का रामबाण इलाज है।

6. खांसी-जुकाम में कारगर (Effective in Cough and Cold)

हल्दी और देसी गाय के घी को गर्म देसी गाय के दूध के साथ लेने से खांसी, जुकाम और साइनसाइटिस का जाना माना इलाज है। यदि नियमित रूप से लिया जाए तो यह गले में खराश, सूंघने, छींकने और खांसी को कम करता है। हल्दी-घी वाले दूध में एंटीवायरल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं। चूंकि इस कॉम्बो के सेवन से वात-पित्त-कफ संतुलित होते हैं, बेहतर पाचन संक्रमण के जोखिम को कम करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment