Create

गूलर का फल खाने के 7 फायदे - Gular Ka fal Khane Ke Fayde

गूलर का फल खाने के फायदे ( फोटो - Sportskeeda Hindi )
गूलर का फल खाने के फायदे ( फोटो - Sportskeeda Hindi )

गूलर का फल खाने में जितना अच्छा लगता है, उसके उतने ही फायदे भी होते हैं। अंजीर की तरह दिखने वाले इस छोटे से फल में कई तरह की खूबियां होती हैं । ये छोटे से दिखने वाले फल में भरपूर मात्रा में औषधीय गुण मौजूद होते हैं। गूलर सेहत (Health) संबंधी कई परेशानियों के काम आ सकता है। और यही नहीं, इस पेड़ की छाल और दूध भी बहुत फायदेमंद होते हैं। गूलर में प्रोटीन, कॉपर, आयरन, पोटेशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम और फोस्फोरस ये सभी तत्व पाए जाते हैं। इन्हीं गुणों के चलते गूलर फल खाने के लाभ हमें देखने को मिलते हैं। तो आइए जानते हैं गूलर फल खाने से होने वाले फायदे-

गूलर फल खाने के फायदे

डायबिटीज के लिए (For diabetes) - डायबिटीज के मरीजों के लिए गूलर (Cluster fig) के फल का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है। डायबिटीज की बीमारी से निपटने के लिए, गूलर के फलों के छिलकों को सुखाएं और उन्हें बारीक पीस कर पाउडर बना लें। अब इस पाउडर में समान मात्रा में मिश्री मिलाएं और गाय के दूध के साथ सेवन करें। इस बात का ध्यान जरूर रखें कि इस पाउडर की सुबह-शाम दो बार केवल 6-6 ग्राम मात्रा ही लेनी है।

बवासीर में गूलर के फायदे (Benefits of Cluster fig in piles) - यदि आप बवासीर से परेशान हैं, तो गूलर का फल खाना आपके लिए बहुत लाभकारी हो सकता है। इसके अलावा गूलर के दूध की 10 से 15 बूंदे पानी में डालकर पीने से बवासीर में आराम मिलता है। कच्चे गूलर से बनी सब्जी का भी आप सेवन कर सकते हैं। इसलिए बवासीर में गूलर का उपयोग जरूर करें ।

दस्त होने पर करें गूलर का सेवन (Consume Cluster fig in case of diarrhea) - कई बार कुछ गलत खाने से या गलत पीने से दस्त की शिकायत होने लगती है। दस्त हमारे शरीर को बुरी तरह से तोड़ देता है। लेकिन क्या आप जानते हैं गूलर के दूध की 5 से 6 बूंदे बताशे में मिलाकर खाने से दस्त की समस्या से निजात पाया जा सकता है। जी हां, गूलर के दूध में बहुत फायदे छुपे हैं जिनका इस्तेमाल हमें करना आना चाहिए।

मासिक धर्म में कारगर गूलर (Cluster fig effective in menstruation) - जिन महिलाओं को मासिक धर्म में परेशानी होती है, उन्हें कच्चे गूलर को सुखा कर उसका चुर्ण बानकर, उसमें बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर रखें और फिर रोजाना सुबह शाम 5 से 10 ग्राम तक इसका 21 दिनों तक सेवन करें। इससे गर्भपात, खूनी पेचिश, और अन्य मासिक धर्म संबंधित परेशानियों में लाभ पहुंचता है।

नकसीर में फायदेमंद गूलर (Cluster fig beneficial in nosebleeds) - गर्मियों में अक्सर कई लोगों को नाक से खून निकलने की परेशानी होती है। जिसकी वजह से लोग बहुत परेशान रहते हैं। इसके उपाय के लिए आप गूलर (Gular) की छाल को घिस कर 20 से 30 ग्राम तक तालू में लगाएं। इससे नाक से खून आने की समस्या से राहत मिल सकती है।

रेड ब्लड सेल्स को बढ़ाए गूलर (Cluster fig to increase red blood cells) - गूलर के फल में विटामिन बी 2 मौजूद होता है। जो कि रेड ब्लड सेल्स को बढ़ाने में मदद करते हैं। गूलर के फल के सेवन से हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है।

शिशु का दुबलापन दूर करने में मददगार (Helpful in removing leanness of the baby) - बच्चों को उम्र के अनुसार, गूलर के दूध की 8 से 10 बूंदों को बच्चे की मां के दूध में मिलाकर या फिर गाय और भैंस के दूध में मिलाकर नियमित रूप से कुछ माह तक पिलाने से बच्चा शरीर से हृष्ट-पुष्ट हो जाएगा।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Shilki
Be the first one to comment