मुलेठी के सेवन से प्राप्त करें ये 8 जादुई फायदे

मुलेठी के सेवन से प्राप्त करें ये 8 जादुई फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
मुलेठी के सेवन से प्राप्त करें ये 8 जादुई फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

मुलेठी (Mulethi), जिसे licorice के रूप में भी जाना जाता है, एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग सदियों से पारंपरिक चिकित्सा में विभिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। इसका स्वाद मीठा, थोड़ा कड़वा होता है और अक्सर इसका उपयोग खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में प्राकृतिक स्वीटनर के रूप में किया जाता है। इस लेख में, हम मुलेठी के कुछ संभावित लाभों और इसे अपनी दिनचर्या में कैसे शामिल किया जा सकता है, पर चर्चा करेंगे।

youtube-cover

मुलेठी के सेवन से प्राप्त करें ये 8 जादुई फायदे - 8 Magical Benefits Of Consuming Licorice In Hindi

एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव हो सकता है (May have anti-inflammatory effects)

मुलेठी में ग्लाइसीर्रिज़िन होता है, एक ऐसा यौगिक जो सूजन-रोधी प्रभाव दिखाता है। यह इसे अस्थमा और एक्जिमा जैसी स्थितियों के उपचार में उपयोगी बना सकता है, जो सूजन की विशेषता है।

एंटीवायरल गुण हो सकते हैं (May have antiviral properties)

कुछ शोध बताते हैं कि मुलेठी में एंटीवायरल गुण हो सकते हैं और यह फ्लू और दाद जैसे वायरस से लड़ने में प्रभावी हो सकता है।

पाचन में सहायता कर सकता है (May aid in digestion)

माना जाता है कि मुलेठी में पाचन गुण होते हैं और सूजन और अन्य पाचन संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद कर सकते हैं। यह अक्सर कब्ज के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में प्रयोग किया जाता है और पाचन रस और एंजाइमों के उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए सोचा जाता है।

एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव हो सकता है (May have antioxidant effects)

मुलेठी एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत है, जो ऐसे यौगिक हैं जो कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करते हैं। यह इसे हृदय रोग और कैंसर जैसी कुछ बीमारियों की रोकथाम में उपयोगी बना सकता है।

एंटी-कार्सिनोजेनिक प्रभाव हो सकते हैं (May have anti-carcinogenic effects)

कुछ शोध बताते हैं कि मुलेठी में एंटी-कार्सिनोजेनिक प्रभाव हो सकते हैं और कुछ प्रकार के कैंसर की रोकथाम में उपयोगी हो सकते हैं।

तनाव-विरोधी प्रभाव हो सकते हैं (May have anti-stress effects)

माना जाता है कि मुलेठी का शरीर पर शांत प्रभाव पड़ता है और यह तनाव और चिंता को कम करने में मदद कर सकता है। यह अनिद्रा और अवसाद जैसी स्थितियों के इलाज के लिए अक्सर पारंपरिक चिकित्सा में प्रयोग किया जाता है।

अल्सर रोधी प्रभाव हो सकता है (May have anti-ulcer effects)

माना जाता है कि मुलेठी में अल्सर-विरोधी प्रभाव होते हैं और यह पेट के अल्सर के उपचार में उपयोगी हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि यह पेट के अस्तर की रक्षा करने और पेट के एसिड के उत्पादन को कम करने में मदद करता है।

एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव हो सकता है (May have anti-inflammatory effects)

मुलेठी को जलनरोधी प्रभाव दिखाया गया है और यह गठिया और गाउट जैसी स्थितियों के उपचार में उपयोगी हो सकता है।

मुलेठी को अपनी दिनचर्या में शामिल करने के कई तरीके हैं। इसे चाय के रूप में सेवन किया जा सकता है, भोजन में प्राकृतिक स्वीटनर के रूप में जोड़ा जा सकता है, या पूरक के रूप में लिया जा सकता है। अपनी दिनचर्या में मुलेठी को शामिल करने से पहले एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से बात करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह कुछ दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है और बड़ी मात्रा में इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now