हाइपर एसिडिटी के इलाज के लिए 8 प्राकृतिक उपचार

हाइपर एसिडिटी के इलाज के लिए 8 प्राकृतिक उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
हाइपर एसिडिटी के इलाज के लिए 8 प्राकृतिक उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

हाइपरएसिडिटी (Hyperacidity), जिसे एसिड रिफ्लक्स के रूप में भी जाना जाता है, एक सामान्य स्थिति है जो तब होती है जब पेट अत्यधिक एसिड पैदा करता है, जो फिर अन्नप्रणाली में वापस आ जाता है। यह स्थिति नाराज़गी, सूजन, मतली और अपच जैसे लक्षण पैदा कर सकती है। हाइपरएसिडिटी के इलाज के लिए ओवर-द-काउंटर दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन इन लक्षणों को कम करने में प्राकृतिक उपचार (natural remedies) प्रभावी हो सकते हैं।

youtube-cover

हाइपर एसिडिटी के इलाज के लिए 8 प्राकृतिक उपचार (8 Natural Remedies to Treat Hyperacidity In Hindi)

1. अदरक (Ginger)

अदरक एक प्राकृतिक एंटी-इंफ्लेमेटरी है और एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को कम करने में मदद करने के लिए दिखाया गया है। अदरक का सेवन विभिन्न रूपों में किया जा सकता है जैसे कि अदरक की चाय, जिंजर एले, या बस इसे अपने भोजन में शामिल करके।

2. सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar)

ACV अपने क्षारीय (alkalizing) गुणों के लिए जाना जाता है और पेट के एसिड को बेअसर करने में मदद कर सकता है। एक गिलास पानी में एक से दो बड़े चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं और भोजन से पहले इसे पिएं।

3. सौंफ के बीज (Fennel Seeds)

सौंफ के बीज एक प्राकृतिक पाचन सहायता हैं और एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। भोजन के बाद कुछ सौंफ चबाएं या सौंफ की चाय बनाने के लिए पानी में उबाल लें।

4. एलोवेरा जूस (Aloe Vera Juice)

मुसब्बर वेरा के रस में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और एक परेशान अन्नप्रणाली को शांत करने में मदद कर सकते हैं। एसिड रिफ्लक्स को रोकने के लिए भोजन से पहले आधा कप एलोवेरा जूस पिएं।

5. बेकिंग सोडा (Baking Soda)

बेकिंग सोडा एक प्राकृतिक एंटासिड है जो पेट के एसिड को बेअसर करने में मदद कर सकता है। एक चम्मच बेकिंग सोडा को एक गिलास पानी में मिलाकर भोजन से पहले पिएं।

6. कैमोमाइल चाय (Chamomile Tea)

कैमोमाइल चाय में सूजन-रोधी गुण होते हैं और एक चिड़चिड़ी अन्नप्रणाली को शांत करने में मदद कर सकते हैं। एसिड रिफ्लक्स को रोकने के लिए सोने से पहले एक कप कैमोमाइल चाय पिएं।

7. पपीता (Papaya)

पपीते में पपैन नामक एक एंजाइम होता है जो प्रोटीन को तोड़ने और पाचन में सहायता कर सकता है। एसिड रिफ्लक्स से बचने के लिए खाना खाने के बाद पपीते के कुछ टुकड़े खाएं।

8. लीकोरिस रूट (Licorice Root)

लीकोरिस रूट में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और एक परेशान एसोफैगस को शांत करने में मदद कर सकते हैं। एसिड भाटा को रोकने के लिए मुलेठी की जड़ की चाय पिएं या भोजन से पहले मुलेठी की जड़ का पूरक लें।

अंत में, हाइपरएसिडिटी एक असुविधाजनक स्थिति हो सकती है, लेकिन इसके लक्षणों को कम करने में प्राकृतिक उपचार प्रभावी हो सकते हैं। अदरक, सेब का सिरका, सौंफ के बीज, एलोवेरा का रस, बेकिंग सोडा, कैमोमाइल चाय, पपीता, और नद्यपान की जड़ सभी प्राकृतिक उपचार हैं जिनका उपयोग हाइपरएसिडिटी के इलाज के लिए किया जा सकता है। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन उपचारों का उपयोग केवल एक अस्थायी उपाय के रूप में किया जाना चाहिए जब तक कि चिकित्सा ध्यान नहीं दिया जा सके। यदि हाइपरएसिडिटी के लक्षण बने रहते हैं, तो उचित निदान और उपचार योजना के लिए डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now