Create

करेले की जड़, बीज और पत्तियों के औषधीय गुण - Karele Ki Jad, Beej Aur Pattiyon Ke Aushadhiye Gun

करेले की जड़, बीज और पत्तियों के औषधीय गुण (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
करेले की जड़, बीज और पत्तियों के औषधीय गुण (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

करेला (Bitter gourd) भले ही स्वाद में कड़वा होता है लेकिन स्वास्थ्य लाभों में इससे बेहतर कुछ भी नहीं होता है। करेला अपने औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है। इसके फायदों के बारे में तो आपने सुना ही होगा, करेला सब्जी के रूप में ही नहीं बल्कि इसके बीज (Seeds), जड़ (Root) और पत्ते (Leaves) भी शरीर के लिए फायदेमंद माने जाते हैं। इस लेख के माध्यम से करेले के बीज, जड़ और पत्तियों के औषधीय गुणों के बारे में बात की गयी है। आइये इस विषय पर और जानकारी प्राप्त करें।

करेले की जड़, बीज और पत्तियों के औषधीय गुण

करेले के बीज के औषधीय गुण : Bittergourd Seeds Benefits In Hindi

- करेले के बीज में बहुत से औषधीय गुण पाए जाते हैं जैसे विटामिन A, विटामिन C, जिंक, फाइबर और आयरन आदि।

- पेट में कीड़े होने की समस्या पर, 2-3 ग्राम करेले के बीजों को पीसकर, पेस्ट तैयार करें। इसके सेवन से पेट के कीड़ों से छुटकारा मिल सकता है।

- करेला के बीज में फाइबर होने के कारण यह शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। करेले के बीजों को पीसकर या ऐसे ही अपनी डाइट में शामिल करके इसके लाभ ले सकते हैं।

करेले के पत्तों के औषधीय गुण : Bittergourd's Leaves Benefits In Hindi

- पेट के कीड़ों की समस्या में करेले के पत्तों से बना पेस्ट भी कारगर हो सकता है। यह कीड़ों को मारने में मदद करता है।

- दाद-खुजली में करेले के पत्तों को पीसकर, इसका रस बनाकर दाद वाले स्थान पर लगाने से राहत मिल सकती है।

- पैरों के दर्द में भी करेले के पत्तें लाभदायक होते हैं और तलवों की जलन पर करेले के पत्तों का रस लगाने से राहत मिलती है।

करेले की जड़ के औषधीय गुण : Bittergourd's Root Benefits In Hindi

- सर्दी-जुकाम होने पर करेले की जड़ को पीसकर शहद मिलाएं और इसका सेवन करें।

- गला बैठने की समस्या में 5 ग्राम करेले की जड़ को पीसकर पेस्ट बना लें और तुलसी के रस में मिलाकर सेवन करने से लाभ मिल सकता है।

- हैजा जैसी बीमारी में करेले की जड़ का सेवन फायदेमंद होता है। उपयोग के लिए, 20 ग्राम करेले की जड़ का काढ़ा बना लें। इसमें तिल का तेल मिलाकर इसका सेवन करना शुरू कर दें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...