Create

अंगूर के दाने में छिपा है इन 7 बीमारियों का इलाज : Angoor Ke Daane Mein Chupa Hai 7 Bimari Ka Ilaj

अंगूर के दाने में छिपा है इन 7 बीमारियों का इलाज (फोटो - sportskeeda hindi)
अंगूर के दाने में छिपा है इन 7 बीमारियों का इलाज (फोटो - sportskeeda hindi)

अंगूर का स्वाद हर किसी को पसंद होता है। अंगूर मधुमेह और कैंसर रोगियों के लिए फायदेमंद है। अंगूर में हेरोस्टिलवेन नामक पदार्थ पाया जाता है जो एंटीऑक्सीडेंट है। अंगूर खून में से शूगर की मात्रा को कम करता है। जानते हैं अंगूर कैसे बीमारी दूर करने में मदद करता है।

अंगूर के दाने में छिपा है इन 7 बीमारियों का इलाज : Angoor Ke Daane Mein Chupa Hai 7 Bimari Ka Ilaj In Hindi

एनीमिया होता है दूर करने के लिए - अंगूर खाने से एनीमिया की समस्या दूर की जा सकती है। बता दें, एनीमिया से बचने के लिए अंगूर से बढ़कर कोई दवा नहीं है।

माइग्रेन के दर्द में राहत पाने के लिए - माइग्रेन एक ऐसी बीमारी है जिसमें बहुत तेज सिरदर्द होता है। इस माइग्रेन के दर्द को ठीक करने में अंगूर का जूस काफी सहायक होता है।

हार्ट अटैक का जोखिम कम करने के लिए - हार्ट अटैक से बचने के लिए काले अंगूर का रस एसप्रिन की गोली के समान कारगर है। एसप्रिन खून के थक्के नहीं बनने देती है।

कैंसर में फायदेमंद - अंगूर में एंटी कैंसर गुण होते हैं। जिससे कैंसर को ठीक करने में मदद मिलती है। अंगूर में पॉली-फेनोलिक फाइटोकेमिकल कंपाउंड पाए जाते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर को न केवल कैंसर से, बल्कि कोरोनरी हार्ट डिजीज से भी बचाता है।

रक्तस्राव के बाद क्षतिपूर्ति - शरीर के किसी भी भाग से रक्त स्राव होने पर अंगूर के एक गिलास जूस में दो चम्मच शहद घोलकर पिलाने पर रक्त की कमी को पूरा किया जा सकता है।

पेट की गर्मी दूर करने के लिए - कुछ लोगों को पेट की गर्मी की शिकायत रहती है। पेट की गर्मी शांत करने के लिए 20-25 अंगूर रात को पानी में भिगों दे तथा सुबह मसल कर निचोडें तथा इस रस में थोडी शक्कर मिलाकर पीना चाहिए।

फोड़े फुंसियों और मुंहासों की समस्या दूर करे - शरीर पर फोडे़ फुंसिया और मुंहासे की समस्या को दूर करने के लिए अंगूर सहायता करता है। अंगूर के रस के गरारे करने से मुंह के छालों में राहत मिलती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment