Create

इस्नोफीलिया का आयुर्वेदिक इलाज - Eosinophilia Ka Ayurvedic Ilaaj

इस्नोफीलिया का आयुर्वेदिक इलाज (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
इस्नोफीलिया का आयुर्वेदिक इलाज (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

खून में मौजूद इयोस्नोफिल्स (eosinophils) की मात्रा का बढ़ जाने की स्थिति को इस्नोफिलिया (Eosinophilia) कहा जाता है। हमारे खून में सफ़ेद ब्लड सेल्स (रक्त कोशिकाएं जो बीमारी से लड़ती हैं) को इयोस्नोफिल कहते हैं और यह हमारे इम्यून सिस्टम का हिस्सा होती हैं। इस्नोफिलिया को एक प्रकार की एलर्जी भी कहा जाता है और कई मामलों में इसके साथ गले में सूजन भी देखी गयी है। इस्नोफिलिया के कारण दिमाग-दिल-किडनी तक काम करना बंद कर देते हैं। इस बीमारी का समय पर इलाज होना ज़रूरी होता है। यदि समय पर इलाज ना हुआ तो रोगी की जान भी जा सकती है। यह बीमारी खून की जांच (CBC - Blood Test) होने पर पता चलती है। जांच के नतीजे आने पर डॉक्टर को संपर्क करना ज़रूरी होता है। आप इसमें आयुर्वेद उपचारों की मदद भी ले सकते हैं। इस लेख में इस्नोफीलिया के लिए आयुर्वेदिक इलाज (Ayurvedic Treatment For Eosinophilia) बताए गए हैं।

इस्नोफीलिया का आयुर्वेदिक इलाज - Eosinophilia Ka Ayurvedic Ilaaj In Hindi

मेथी दाना (Fenugreek seeds)

मेथी शरीर में होने वाले संक्रमण को ख़त्म करने में मददगार होती है। यह शरीर की इम्युनिटी को बढ़ाने में भी उपयोगी है। ऐसे में आप मेथी दाना के पानी का सेवन करके फायदे ले सकते हैं। ऐसा करने से आपके गले की सूजन कम हो जाती है,और इस्नोफिलिया की समस्या भी कम हो जाती है।

काली मिर्च और शहद (Black Pepper And Honey)

काली मिर्च के सेवन से भी इस्नोफिलिया की समस्या में आराम मिलता है। आधा चम्मच काली मिर्च पाउडर को एक चम्मच शहद में मिलाएं और इसे दिन में दो बार लें। यह शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार है।

अदरक (Ginger)

अदरक के सेवन से इस्नोफिलिया का स्तर कम किया जा सकता है। आप चाय में भी अदरक डालकर पी सकते हैं। अदरक को अपनी डाइट में शामिल करके आपको कुछ दिनों में ही लाभ देखने को मिलेंगे। यह आपकी इम्युनिटी को बूस्ट करने में भी मददगार है।

प्याज का रस (Onion Juice)

प्याज का रस इस्नोफिलिया के स्तर को नियंत्रित करने में उपयोगी होता है। इसके लिए आप सुबह एक चम्मच प्याज का रस एक गिलास पानी में मिलाकर पियें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment