Create

बाईं करवट सोने के फायदे- Baai karvat sone ke fayde

बाईं करवट सोने के फायदे (फोटो-Healthys )
बाईं करवट सोने के फायदे (फोटो-Healthys )

हर किसी व्यक्ति के सोने का अलग-अलग तरीका होता है। कोई बाईं करवट(left side) सोना पसंद करता है तो कोई दाई करवट (Right side) सोना पसंद करता है। लेकिन हमारे सोने के तरीको का सीधा असर स्वास्थ्य पर पड़ता है। अगर कोई व्यक्ति बाईं करवट होकर सोता है तो यह स्वास्थ्य के लिहाज से काफी अच्छा साबित होता है। बाईं करवट सोने से शरीर के सभी अंग (Organ) बेहतर तरीके से काम करते हैं।

बाईं करवट सोने से नींद भी अच्छी आती है। किसी भी व्यक्ति के लिए भरपूर नींद लेना बहुत जरूरी होता है। क्योंकि नींद न पूरी हो तो सुबह उठने पर फ्रेश महसूस नहीं होता है। हमारे शरीर के लिए 8-9 घंटे की नींद लेना बहुत जरूरी होता है। जानिए बाईं करवट सोने के फायदों के बारे में।

बाईं करवट सोने के फायदे (baai karvat sone ke fayde in hindi)

पेट के लिए लाभदायक

बाईं करवट सोने से खाना अच्छी तरह से पच जाता है। साथ ही पाचन शक्ति (Digestion) भी मजबूत होती है। क्योंकि इस पोजीशन में सोने से खाना छोटी आंत से बड़ी आंत तक आसानी से पहुंच जाता है। जिससे पेट संबंधी कोई बीमारी नहीं होती है।

खर्राटे से छुटकारा

जिन लोगों को खर्राटे (Snoring) की शिकायत होती है उनको सोते वक्त बाईं करवट ही सोना चाहिए। क्योंकि बाईं करवट सोने से जुबान और गला दोनों ही न्यूट्रल पोजिशन में रहते हैं, जिससे सोते समय सांस लेने में कोई दिक्कत नहीं होती है। साथ ही खर्राटे में भी आराम मिलता है।

दिल के लिए फायदेमंद

दिल (Heart) हमारे शरीर की बाईं तरफ होता है। इसलिए अगर कोई व्यक्ति बाईं करवट सोता है तो दिल पर प्रेशर कम पड़ता है। साथ ही हार्ट मजबूत भी रहता है।

गर्दन और कमर दर्द में आराम

आजकल गर्दन (Neck) और कमर दर्द (Back pain) की परेशानी कई लोगों को होती है। लेकिन अगर आप सोते वक्त बाईं करवट सोते हैं तो इससे कमर और गर्दन दर्द से आराम मिलता है। क्योंकि बाई करवट सोने से रीढ़ की हड्डी (spinal cord) पर बिल्कुल भी जोर नहीं पड़ता है।

गर्भवती महिला के लिए फायदेमंद

गर्भवती (Pregant) महिला के लिए बाईं करवट सोना बहुत फायदेमंद माना जाता है। बाईं करवट सोने से शिशु के स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। साथ गर्भवती महिला को हाथों और पैरों में सूजन की समस्या नहीं होती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Rakshita Srivastava
Be the first one to comment