बलगम का आयुर्वेदिक उपचार

बलगम का आयुर्वेदिक उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
बलगम का आयुर्वेदिक उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

यदि आपको लगातार खांसी हो रही है, तो आपके सीने में बलगम का निर्माण होने की संभावना है। हालांकि यह जीवन के लिए खतरा नहीं है, लेकिन यह निश्चित रूप से आपके जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है और ध्यान न दिया जाए तो यह अतिरिक्त जटिलताओं को जन्म दे सकता है। इसके लिए डॉक्टर के पास जाने से पहले, कुछ चीजें हैं जो आप घर पर अपने लक्षणों को दूर करने में अपना सकते हैं। यह लेख आपको बलगम के जमाव को कम करने के आयुर्वेदिक उपचार बताने जा रहा है। उपलब्ध विभिन्न उपचार विकल्पों के बारे में अधिक जानने के लिए लेख पढ़ते रहें।

बलगम का आयुर्वेदिक उपचार - Balgam Ka Ayurvedic Upchar In Hindi

1. नींबू का रस और शहद का सेवन करें (Drink lemon juice and honey)

नींबू के रस और शहद में एक्सपेक्टोरेंट क्रिया होती है क्योंकि यह संयोजन विटामिन C और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। यह श्वसन संबंधी वायुमार्ग की सूजन को कम करने में मदद कर सकता है, जिससे खांसी से राहत मिल सकती है तथा सर्दी और फ्लू ठीक होने में तेजी आ सकती है। शहद गले को नम कर सकता है और ऊतक जलन को कम कर सकता है, जो खांसी से राहत में योगदान देता है।

2. संतरा, अनानास और जलकुंभी का रस (Orange, pineapple and watercress juice)

संतरा, अनानास और जलकुंभी का रस विटामिन A, विटामिन C, आयरन, पोटेशियम और ब्रोमेलैन से भरपूर होता है। इन पदार्थों में एक्सपेक्टोरेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो कफ से लड़ने में मदद करते हैं तथा सर्दी और फ्लू के ठीक होने में तेजी लाने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं।

3. दालचीनी के साथ अदरक का मिश्रण (Ginger with cinnamon)

दालचीनी के साथ अदरक के रस से गले की त्वचा (tissue linings) पर ड्राईनेस का प्रभाव पड़ता है, जिससे यह एक बेहतरीन प्राकृतिक एक्सपेक्टोरेंट (expectorant) बन जाता है। इसका उपयोग सर्दी, बलगम या फ्लू के कारण होने वाले कफ के साथ खांसी से निपटने के लिए किया जा सकता है।

4. पुदीने की चाय (Mint tea)

पुदीने की चाय मेंथोल (menthol) से भरपूर होती है, एक एसेंशियल ऑयल जो खांसी, कफ, बहती नाक, जमा हुआ बलगम, भरी हुई नाक और सिरदर्द जैसे लक्षणों में सुधार कर सकता है। यह सभी सर्दी और फ्लू के साथ आम समस्याएं हैं जो पुदीने की चाय से ठीक हो सकती हैं। इस चाय में एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं, जो शरीर को सर्दी से लड़ने और जल्दी ठीक होने में मदद करते हैं।

5. प्याज और लहसुन से बना मिश्रण (Onion and Garlic Syrup)

बलगम के लिए यह घरेलू उपाय प्याज और लहसुन से बना है, जिसमें एक्स्पेक्टोरेंट और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। यह कफ को ढीला करने, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और अधिक कफ उत्पादन को रोकने के लिए फेफड़ों की सूजन को कम करने में मदद कर सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar