Create
Notifications

अमृतधारा के फायदे - amritdhara ke fayede

अमृतधारा के फायदे(फोटो:freepik)
अमृतधारा के फायदे(फोटो:freepik)
Ritu Raj

अमृतधारा का ज्यादातर आयुर्वेद में कई बीमारियों के इलाज के लिए करता है। इसके जरिए कई बीमारियों को ठीक किया जा सकता है। अमृतधारा गैस्ट्रिक, अपच, डायरिया, इर्रिटेबल बाउल मूवमेंट, मतली दांत में दर्द और हिचकी में बहुत ही लाभकारी है। ये दवा लिक्विड और पाउडर दोनों तरह से उपलब्ध है। इसमें कई सारी जड़ी बूटियां मिलाई जाती हैं, जैसे अजवायन का सत्त, पुदीना का सत्त, लौंग का तेल, कपूर, नीलगिरी का तेल जैसी चीजों को मिलाकर बनाई जाती है।

अमृतधारा के फायदे Benefits of Amritdhara in Hindi

पेट दर्द

अगर किसी को उल्टी या पेट दर्द (Amritdhara get Relief in Stomach Pain) की समस्या है तो ऐसे में अमृतधारा आपके लिए रामबाण इलाज साबित हो सकता है। इसकी 3-4 बूंदें थोड़े से पानी में डालकर पी जाए। कुछ ही देर में आराम मिल जाएगा। उल्टी और पेट दर्द के अलावा दस्त और बदहजमी में भी ये काफी लाभकारी है।

दांत दर्द

उम्र के साथ दांतों में दर्द (Amritdhara for teeth pain) की समस्या बढ़ जाती है और ये दर्द असहनीय होते हैं। इस दर्द से राहत पाने के लिए अमृतधारा का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए।

हिचकी

हिचकी आ रही है तो अमृतधारा की 1-2 बूंद जीभ पर रखकर अंदर की तरफ सूंघने से केवल 4 से 5 मिनट में हिचकी (Hichki ka gharelu nuskha) आनी बंद हो जाती है।

हैजा

हैजा (Amritdhara for cholera) एक बेहद ही गंभीर रोग है, ऐसे में चाय में एक चम्मच प्याज के रस में 2 बूंद अमृतधारा डालकर पीने से काफी लाभ मिलता है।

सिर दर्द

सिर दर्द (Get Relief in headache by using Amritdhara)की समस्या इन दिनों काफी तेजी से उभर कर आई है, इसकी वजह ज्यादा स्ट्रेस लेना और देर तक सिस्टम पर बैठे रहना। अगर आपकी सिर दर्द की समस्या ठीक नहीं हो रही है तो 2 बूंद अमृतधारा को लालट पर लगा कर थोड़ी देर मालिश करें। कुछ ही देर में सिर दर्द से राहत मिल जाएगा।

शरीर दर्द

शरीर दर्द (Benefits of Amritdhara in Body Pain) अगर किसी को है तो वो 10 ग्राम वैसलीन में अमृतधारा मिलाकर मालिश करें। इससे काफी आराम मिलेगा। इसके साथ ही फटे होंठों पर लगाने से भी फायदा होता है।

दस्त

दस्त (Diarrhea ka Gharelu Upchar) की समस्या है तो 5-7 बूंद अमृतधारा और एक चम्मच अदरक के रस के साथ मिलाकर सेवन करने से ये समस्या ठीक हो जाती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Ritu Raj

Comments

Fetching more content...