Create

नाभि पर बादाम, सरसों और जैतून का तेल लगाने के फायदे- Nabhi par badam, sarso aur jaitun ka tel lagane ke fayde

नाभि पर बादाम, सरसों और जैतून का तेल लगाने के फायदे
नाभि पर बादाम, सरसों और जैतून का तेल लगाने के फायदे

हमारे घर में बीमारियों से बचने के कई तरीके मौजूद हैं जिसमें से एक है नाभि पर तेल लगाना। भारत में तेल मालिश की पारंपरिक चिकित्सा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है और आज भी ये चिकित्सा अनेक बीमारियों से बचाने और लड़ने में कारगर है। नाभि पर तेल लगाने से बीमारियों से बचने के लिए अलावा स्किन के लिए भी फायदेमंद होता है। इसके साथ ही नियमित रूप से नाभि में तेल लगाने से आपके होंठ कभी फटेंगे नहीं और गुलाबी बने रहेंगे। नाभि को शरीर का वह चमत्कारी बिंदु माना जाता है, जिसकी मदद से कई बीमारियों से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। आज हम बात करें नाभि में कौन-कौन से तेल लगाने से क्या फायदे होते हैं।

सबसे पहले यह जान लें कि नाभि पर तेल कैसे लगाएं। इसके लिए सबसे पहले तेल की कुछ बूंदे नाभि के आसपास लगाएं और उंगलियों की मदद से नाभि पर लगाएं। इसके बाद रूई की मदद से तेल की कुछ बूंदों को नाभि में लगाएं और 20 मिनट के लिए छोड़ दें।

बादाम का तेल (Benefits of applying almond oil on the navel)

तनाव और ज्यादा काम करने के का असर चेहरे पर दिखा पड़ता है और चेहरा बेजान और मुरझा जाता है, ऐसे में अगर आप अपनी नाभि में बादाम का तेल लगाते हैं, तो कहा जाता है कि चेहरे की चमक वापस आ जाती है।

सरसों का तेल (mustard oil for Navel Oiling)

नाभि में तेल लगाने के अनेकों फायदे बताए गए हैं। इसमें से सरसों के तेल लगाने का भी अपना अलग ही लाभ है। रोजाना अगर कोई अपनी नाभि में सरसों का तेल लगाता है तो उसे फटे होंठों से छुटकारा मिलता है और साथ ही इसकी नमी बनी रहती है।

जैतून का तेल (Benefits of Olive oil for Navel Oiling)

नाभि में तेल लगाने से मोटापा भी कम किया जा सकता है। रोज रात को सोने से पहले नाभि पर जैतून का तेल लगाएं। ऐसे करने से मोटापा कम होता है और साथ ही जोड़ों के दर्द से भी राहत मिलता है।

नाभि पर तेल लगाने के अन्य फायदे |other benefits of navel oiling

दिमाग शांत रहता है

त्वचा के लिए लाभकारी है

बालों को बढ़ावा मिलता है

पाचन में सुधार करता है

प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Ritu Raj
Be the first one to comment