प्रेगनेंसी में क्रैनबेरी जूस के फायदे

प्रेगनेंसी में क्रैनबेरी जूस के फायदे (sportskeeda Hindi)
प्रेगनेंसी में क्रैनबेरी जूस के फायदे (sportskeeda Hindi)

प्रेगनेंसी में एक महिला को अपनी सेहत का सबसे ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत होती है। इस समय में शरीर को सबसे अधिक मात्रा में विटामिन और खनिज की जरूरत होती है। ऐसे में क्रैनबेरी जूस (Cranberry juice benefit) का सेवन शरीर में जरूरी विटामिन और मिनरल की कमी तो पूरा करता ही है, साथ में कई हेल्थ रिस्क को भी कम करता है। प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान मां को सभी न्यूट्रिशन की जरूरत होती है। जिसमें क्रैनबेरी जूस भी मदद कर सकता है। इससे बार-बार सिरदर्द, थकान, यूरिन इंफेक्शन और चक्कर आने की समस्या से भी राहत मिल सकती है और इम्यूनिटी को मजबूत भी करता है। जानते हैं प्रेगनेंसी में क्रैनबेरी जूस के फायदे।

youtube-cover

प्रेगनेंसी में क्रैनबेरी जूस के फायदे : Benefits Of Cranberry Juice During Pregnancy In Hindi

इम्यून सिस्टम बनाए मजबूत -

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के समय और प्रसव के वक्त महिलाओं का इम्यून सिस्टम कम होने लगता है लेकिन क्रैनबेरी में प्रोएंथोसायनिडिन की भरपूर मात्रा पाई जाती है। जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें विटामिन सी की भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो बीमारियों से आपकी रक्षा करती है।

यूटीआई की समस्या में राहत -

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान गर्भाशय बढ़ता और महिलाओं को वॉशरूम बार-बार जाना पड़ता है। इसकी वजह से यूरिनरी ट्रैक्ट में इंफेक्शन होने का खतरा रहता है। क्रैनबेरी जूस में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट बैक्टीरिया को दूर कर संक्रमण की समस्या को कम करता है।

कब्ज में आराम -

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान महिलाओं को कब्ज और गैस की शिकायत बहुत ज्यादा रहती है, ऐसा इसलिए क्योंकि शरीर भोजन का पाचन तेजी से नहीं हो पाता है। ऐसे में क्रैनबेरी जूस में फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जिसकी मदद से भोजन का पाचन आसानी से होता है और कब्ज की समस्या में सहायता मिलती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan