Create

पुराना गुड़ खाने के 7 स्वास्थ्यवर्धक फायदे

पुराना गुड़ खाने के फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)
पुराना गुड़ खाने के फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)

पुराने समय से ही बुजुर्ग अक्सर अपना भोजन गुड़ के साथ समाप्त करते हैं। कोई यह मान सकता है कि इसका मीठा, स्वर्गीय स्वाद ही इसे लोकप्रिय बनाता है। हालांकि, इस स्वाभाविक रूप से मीठे ताज़े गुड़ के बहुत से फायदे होते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि पुराने रखे हुए गुड़ के भी बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ हैं? मुख्य रूप से कच्चे, केंद्रित गन्ने के रस से बनाया जाता है जिसे तब तक उबाला जाता है जब तक कि यह जम ना जाए, यह अनिवार्य रूप से एक प्रकार की अपरिष्कृत चीनी है। गुड़ के रूप में भी जाना जाता है, इसे खजूर (पश्चिम बंगाल के नोलन गुर) या नारियल के रस से भी बनाया जा सकता है। भारत के अधिकांश हिस्सों में गुड़ मुख्य आहार का एक प्रमुख हिस्सा है। इसे ताज़ा या पुराना दोनों तरह से खाया जा सकता है। यह लेख आपको पुराने गुड़ के फायदे (benefits of old jaggery) बताने जा रहा है।

पुराना गुड़ खाने के स्वास्थ्यवर्धक फायदे : Benefits Of Eating Old Jaggery In Hindi

1. वजन घटाने में मददगार (Helpful in weight loss)

वजन बढ़ना एक ऐसी समस्या है जिससे ज्यादातर लोगों को जूझना पड़ता है। वजन घटाने को बढ़ावा देने का एक विश्वसनीय उपाय गुड़ का मध्यम सेवन है। गुड़ एक जटिल चीनी है, जो सुक्रोज की लंबी श्रृंखलाओं से बनी होती है। शरीर को सुक्रोज को पचाने में समय लगता है और इस प्रकार निकाली गई ऊर्जा को धीरे-धीरे और लंबे समय तक छोड़ता है। यह हमें लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराता है, जिससे हमारी भूख कम होती है।

2. ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करे (Control blood pressure)

गुड़ में पोटेशियम और सोडियम की मौजूदगी शरीर में एसिड के स्तर को बनाए रखने में मदद करती है। यह बदले में, सामान्य ब्लड प्रेशर के स्तर को बनाए रखता है। यह रक्त वाहिकाओं को पतला करता है जिससे रक्त का प्रवाह सुचारू रूप से होता है और ब्लड प्रेशर स्थिर रहता है।

3. मासिक धर्म के दर्द से राहत दिलाए (Provide relief from menstrual pain)

मासिक धर्म में ऐंठन से होने वाले दर्द को कम करने के लिए गुड़ एक प्राकृतिक उपचार है। गुड़ का सेवन एंडोर्फिन (endorphins), एक हैप्पी हार्मोन जारी करता है, जो PMS के लक्षणों जैसे मिजाज, चिड़चिड़ापन, भोजन की लालसा और बहुत कुछ से निपटने में मदद करता है। गुड़ का नियमित सेवन अनियमित पीरियड्स (irregular periods) को भी नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

4. एनीमिया को रोके (Prevent anemia)

भारत भर में 63 प्रतिशत महिलाएं एनीमिक (anaemic) हैं। हर पांच में से एक मातृ मृत्यु एनीमिया (anaemia) से जुड़ी होती है। एनीमिया को रोकने के लिए यह आवश्यक है कि शरीर में आयरन और फोलेट के साथ-साथ RBCs का पर्याप्त स्तर बना रहे। गुड़ आयरन और फोलेट दोनों से भरपूर होता है, इसलिए एनीमिया को रोकने का एक अच्छा तरीका है। डॉक्टर अक्सर किशोरों और गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन की सलाह देते हैं।

5. सर्दी-खांसी का इलाज करे (Treat cold and cough)

गुड़ फ्लू जैसे लक्षणों जैसे सर्दी और खांसी को ठीक करने में भी मदद करता है। यह किसी के शरीर में गर्मी का उत्पादन करता है जिससे ठंड से लड़ता है। गुड़ गले की अंदरूनी परत पर एक परत बनाता है और इस प्रकार गले से संबंधित स्थितियों जैसे गले में खराश या खुजली के लिए फायदेमंद होता है। बेहतर लाभ पाने के लिए गर्म दूध में गुड़ मिलाएं या अपनी चाय में स्वीटनर के रूप में इसका इस्तेमाल करें।

6. इम्युनिटी बढाए (Boosts immunity)

गुड़ में सेलेनियम और जिंक जैसे एंटीऑक्सीडेंट और मिनरल्स पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते हैं। यह विभिन्न संक्रमणों के खिलाफ प्रतिरोध के निर्माण के साथ-साथ मुक्त कणों से होने वाले नुकसान को रोकने में मदद करता है। इसलिए इसे सर्दियों में अक्सर खाया जाता है।

7. मूत्र मार्ग की समस्याओं को दूर करे (Cure urinary tract problems)

गन्ना एक प्राकृतिक मूत्रवर्धक है, इसलिए गुड़ में भी यह गुण होता है। मूत्राशय की सूजन को कम करना, पेशाब को उत्तेजित करना और मूत्र के सुचारू प्रवाह में सुधार करना कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिनसे इस पौष्टिक खाद्य पदार्थ के नियमित सेवन से आसानी से मदद मिल सकती है।

youtube-cover

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment