Create

पनीर के फूल के फायदे- panner ke phool ke fayde

पनीर के फूल के फायदे जान रह जाएंगे हैरान
पनीर के फूल के फायदे जान रह जाएंगे हैरान

कई ऐसे फूल हैं, जो प्रकृति को सुंदर बनाने के साथ ही सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं। इन्हीं में से एक है पनीर के फूल (Paneer ke Phool ke fayde) जो औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। इसको शुगर को कम करने, अनिद्रा की समस्या दूर करने और त्वचा के लिए फायदेमंद बताया गया है। डायबिटीज को जड़ से तो खत्म नहीं किया जा सकता लेकिन हेल्दी लाइफ स्टाइल और नियमित दिनचर्या से इस पर काबू पाया जा सकता है। ऐसे में पनीर के फूल डायबिटीज के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। पनीर के फूल को पनीर डोडा और इंडियन रेनेट भी कहा जाता है।

पनीर के फूल के फायदे- panner ke phool ke fayde in Hindi

डायबिटीज (Paneer flowers are helpful to control diabetes)

शुगर कंट्रोल करने के लिए पनीर के फूल को काफी लाभकारी बताया गया है। कई शोध में यह बात सामने आई है कि, पनीर के फूल के अर्क में एंटी डायबिटिक गुण मौजूद होते हैं जो ब्लड शुगर लेवल को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

अनिद्रा (paneer flower to get rid of insomnia problem)

कई लोगों को तनाव के कारण नींद न आने की समस्या होती है। ये अगर लगातार बनी रहे तो इसका परिणाम काफी गंभीर हो सकता है। ऐसे में अगर आपको अनिद्रा की समस्या है तो इससे छुटकारा पाने के लिए पनीर के फूलों का सेवन करें। इससे काफी फायदा मिलता है।

सर्दी-जुकाम और बुखार (Paneer flower is beneficial in cold and fever)

पनीर के फूल में कई ऐसे औषधीय गुण होते हैं जो शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। पनीर के काढ़े का सेवन करके सर्दी-जुकाम और बुखार जैसी समस्याओं से निजात पाया जा सकता है।

वजन कम करे (paneer flower for lose weight)

एक शोध की मानें तो पनीर के फूल के एथनॉलिक अर्क में एंटी ओबेसिटी यानी मोटापे को कम करने वाला प्रभाव पाया जाता है। ऐसे में वजन को नियंत्रित करने में पनीर का फूल काफी असरकारी है।

अस्थमा (paneer flower beneficial in asthma)

अस्थमा के मरीजों को पनीर के फूल का सेवन करना चाहिए। एक शोध में बताया गया है कि आयुर्वेद से लेकर यूनानी पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में पनीर के फूल का इस्तेमाल अस्थमा के इलाज के लिए किया जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Ritu Raj
Be the first one to comment