Create

तीता फूल के फायदे : Teeta Phool Ke Fayde

तीता फूल के फायदे (फोटो - sportskeeda hindi)
तीता फूल के फायदे (फोटो - sportskeeda hindi)

हमारे आस पास आयुर्वेद में पुराने समय से ही इलाज के लिए तमाम तरह की फूल और पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता रहा है। जिसमें से स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए और बीमारियों को दूर करने के लिए तीता फूल के फायदे (Teeta Phool Benefits) अनेकों हैं। तीता फूल में मौजूद गुण व्यक्ति को कई गंभीर बीमारियों में फायदा देते हैं। तीता फूल में मौजूद गुण शरीर में खून की कमी जैसी गंभीर समस्या को दूर करने के लिए बहुत उपयोगी माने जाते हैं। आइये जानते हैं तीता फूल के फायदे।

तीता फूल के फायदे (Teeta Flower Benefits in Hindi)

खून की कमी दूर करे - शरीर में खून की कमी हो जाने पर कई अन्य समस्या देखने को मिलती है। ऐसे में तीता फूल ( Teeta Flower ) का इस्तेमाल शरीर में खून की कमी दूर करने के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें मौजूद गुण शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर संतुलित रखने का काम करते हैं। तीता फूल क्षारीय प्रकृति का होता है और असम, मणिपुर में इसका इस्तेमाल सब्जी या खाना बनाने में मसाले के रूप में भी किया जाता है। आप आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह के अनुसार तीता फूल का इस्तेमाल शरीर में खून की कमी की समस्या को दूर करने के लिए कर सकते हैं।

गठिया की समस्या में फायदेमंद - तीता फूल गठिया या अर्थराइटिस की समस्या में बहुत फायदेमंद माना जाता हैं। इस फूल की चाय या सब्जी खाने से आपको गठिया की समस्या में फायदा मिलता है।

स्किन से जुड़ी समस्याओं में फायदेमंद - तीता फूल स्किन से जुड़ी समस्याओं में बहुत फायदेमंद माना जाता है।तीता फूल की चाय या सब्जी का सेवन करने से स्किन को फायदा मिलता है। स्किन से जुड़ी समस्या जैसे स्किन पर दानें, इचिंग आदि को दूर करने के लिए आप तीता फूल को आयुर्वेदिक औषधि के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

लिवर के लिए - तीता फूल का सेवन करने से लिवर को बहुत लाभ होता है। तीता फूल को लिवर और प्लीहा से जुड़ी समस्याओं के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है। आप तीता फूल के पत्तों का अर्क लिवर को मजबूत करने और प्लीहा से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए कर सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment