कब्ज से छुटकारा पाने के लिए खस की जड़ का पानी के फायदे

कब्ज से छुटकारा पाने के लिए खस की जड़ का पानी के फायदे (sportskeeda Hindi)
कब्ज से छुटकारा पाने के लिए खस की जड़ का पानी के फायदे (sportskeeda Hindi)

गर्मियों के मौसम में लोगों को कब्ज की परेशानी होना काफी आम बात है। ऐसे में गर्मियों में कब्ज (gas) जैसी परेशानी से बचने की कोशिश करनी चाहिए। अगर आप कब्ज से बचना चाहते हैं, तो आयुर्वेदिक उपायों का सहारा ले सकते हैं। इन आयुर्वेदिक उपायों में खस की जड़ (khus root) का पानी शामिल है। जी हां, अगर आप कब्ज की परेशानी से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो इस भीषण गर्मी में खस की जड़ का पानी इस्तेमाल करें। इस पानी के इस्तेमाल से कब्ज के साथ-साथ अन्य परेशानी जैसे- लू, डायरिया इत्यादि से बचाव किया जा सकता है। आइए जानते हैं खस की जड़ का पानी कब्ज की परेशानी में कैसे है लाभकारी।

youtube-cover

कब्ज में कैसे लाभकारी है खस की जड़ का पानी

आंतों में मौजूद गंदगी साफ करने के लिए खस की जड़ का पानी पीना लाभकारी होता है। साथ ही यह आंतों के मार्ग को साफ करने में मदद कर सकता है। इस पानी के सेवन से आपका पाचन तंत्र हेल्दी रहता है, जिसके चलते कब्ज जैसी समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलती है। इसके अलावा खस में एंटीऑक्सीडेंट और क्षारीय गुण मौजूद होते हैं, जो गर्मियों में पेट को ठंडा रखने में मददगार हो सकते हैं।

खस की जड़ का पानी क्या है :

खस को वेटिवर (Vetiver ) नाम से भी जाना जाता है। यह एक खुशबूदार घास का गुच्छा होता है। इसमें मौजूद औषधीय गुणों की वजह से आयुर्वेद मे इसका काफी ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। खस के इस्तेमाल से कब्ज, सूजन और पाचन से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने के लिए किया जा सकता है।

खस की जड़ का पानी पीने के अन्य लाभ :

1 . खस की जड़ का पानी पीने से सिरदर्द और सूजन की परेशानी को दूर किया जा सकता है।

2 . खस की जड़ का पानी पीने से मस्तिष्क में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है।

3 . खस स्ट्रेस को दूर कर सकता है।

4 . यह अनिद्रा की परेशानी को दूर करने में लाभकारी हो सकता है।

5 . खस (khus) की जड़ का पानी गर्मियों में लाभकारी हो सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment