Create

टंकण भस्म के 3 फायदे: Tankan Bhasma Ke 3 Fayde

फोटो- healthygh
फोटो- healthygh

टंकण भस्म एक आयुर्वेदिक दवा है जो व्यक्ति को कई समस्याओं से दूर करने में मदद करती है। इससे स्वास्थ्य पर बहुत गहरा असर होता है। टंकण भस्म में सूजन को कम करने वाले यानी एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं और इसकी तासीर गर्म होती है। इसके चलते यह बलगम को पिघलाकर निकालने में बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसे कई आयुर्वेदिक दवाओं में कंपोनेंट के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। टंकण भस्म यानी सोडियम टेट्राबोरेट को टूथपेस्ट और साबुन को बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। जानते है टंकण भस्म से क्या लाभ मिलते हैं।

टंकण भस्म से होने वाले फायदे - Tankan Bhasma Se Hone Wale Fayde In Hindi

मुंह के छालों को दूर करने के लिए - मुंह में छाले होने पर बहुत दर्द का सामना करना पड़ता है। जिसकी वजह से कुछ भी खाने पीने में परेशानी होती है। ऐसे में टंकण भस्म एक बहुत अच्छा उपाय है। टंकण भस्म को कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के लिए फर्स्ट एड उपचार के रूप में इस्तेमाल किया जाने वाला उपाय है। इनमें जीभ या मुंह के साथ साथ गले में सूजन भी शामिल है।

आंखों की समस्या को दूर रखे - टंकण भस्म को आंखों के लिए फायदेमंद कहा जाता है। इसे कैलामिना, बोर्नियोलम और नाट्री सल्फास एक्ससिंकेटस के साथ मिलाकर एक आई ड्राप तैयार की जाती है। जिन लोगों की आंखें लाल या फिर आंखों में सूजन की समस्या हो तो इसके लिए इस आई ड्राप का उपयोग किया जा सकता है।

सीने में कंजेस्शन होने पर - बहुत से लोग हैं जीने बहुत जल्द सीने में कफ की समस्या या कंजेस्शन की समस्या हो जाती है। ऐसे लोगों को अपने खाने पीने का बहुत ध्यान रखने की जरूरत होती है। जिन लोगों को सीने में कंजेस्शन की समस्या हो उनके लिए टंकण भस्म का उपयोग बहुत लाभकारी होता है। इसके उपचार के लिए, टंकण भस्म को अन्य जड़ी-बूटियों के साथ मिलाया जाता है। टंकण भस्म को आम तौर पर बाहरी उपयोग के लिए इस्तेमाल किया जाता है और इसका अंदरूनी उपयोग देखभाल और सही रूप के साथ किया जाना चाहिए। यदि इसका सेवन सावधानी से नहीं किया जाता है, तो यह जहरीला हो सकता है। इसीलिए इसे खुद से इस्तेमाल करने के बजाय डॉक्टर से डोज़ लेना चाहिए।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
1 comment