Create
Notifications

वृक्षासन योग के फायदे- Vrikshasana Yoga ke fayde

ये है वृक्षासन योग के चमत्कारी फायदे
ये है वृक्षासन योग के चमत्कारी फायदे
reaction-emoji
Ritu Raj

benefits of Vrikshasana Yoga in hindi: अगर कोई नियमित रूप से योगासन करता है तो वो न सिर्फ फिट रहता है बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रहता है। योगा करने से बीमारियों के होने के चांसेस काफी कम हो जाते हैं। ये शारीरिक के साथ ही मानसिक की सेहत के लिए बेहद ही फायदेमंद होता है। योगा की सबसे बड़ी जो विशेषता होती है वो यह कि अगर आप एक योग करते हैं तो इसके कई सारे लाभ मिलते हैं। ऐसा नहीं है कि इससे सिर्फ एक ही लाभ मिलेगा बल्कि, शरीर के अन्य कई हिस्सों को भी फायदा मिलता है। वृक्षासन योग के बारे में बात करें तो इसके जरिए आप अपनी रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने के साथ कई और लाभों का फायदा उठा सकते हैं।

वृक्षासन योग के फायदे

रीढ़ की हड्डी होगी मजबूत (the spine will be strong)

रीढ़ की हड्डी के लिए वृक्षासन बेहद ही फायदेमंद योग है। इसके नियमित रूप से करने से रीढ़ की हड्डी लचीला बनने के साथ ही मजबूत भी होती है।

मांसपेशियां होंगी मजबूत (muscles will be stronger)

अगर किसी को कमजोर मांसपेशियों की समस्या है तो वो वृक्षासन योग करे। इससे आपकी मांसपेशियां मजबूत होंगी। यह मसल्स को लचीला बनाता है, जिसके चलते आपकी मांसपेशियों को मजबूती मिलती है।

शारीरिक सहनशक्ति बढ़ाये (increase physical stamina)

सहनशक्ति की समस्या वालों के लिए वृक्षासन काभी लाभदायक है। इसे करने से धैर्य और सहन करने की शक्ति बढ़ती है और साथ ही आपका मन भी शांत रहता है।

पैरों को मिलेगा मजबूती (feet will get stronger)

वृक्षासन कमजोर पैर वालों के डोर्सी फ्लेक्स और प्लानेर फ्लेक्सियन में सुधार कर सकता है। डोर्सी फ्लेक्स - पैरों के पंजों के ऊपर की ओर उठाने की क्षमता और फ्लानेर फ्लेक्सियन- पैर के अंगूठे पर वजन संभालने की क्षमता। इसके साथ ही इस योग के करने से पूरी शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

ऐसे करे वृक्षासन योग (Vrikshasana Yoga tips)

वृक्षासन योग करने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो।

अपने दाहिने घुटने को मोड़कर दाएं पैर को बाईं जांघ पर रख लें।

बाएं पैर को सीधा रखते हुए शरीर का संतुलन बनाएं।

अपने हाथों को अपने सिर के ऊपर उठाएं, और अपनी हथेलियों को एक साथ मिलाकर 'नमस्कार' की मुद्रा में आ जाएं।

कुछ समय तक इस अवस्था में रहने के बाद सांस छोड़ते हुए सामान्य स्थिति में आ जाए।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Ritu Raj
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...