Create
Notifications

ब्रेड खाने से होने वाले 5 नुकसान : Side Effects Of Eating Bread

ब्रेड खाने से होने वाले 5 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
ब्रेड खाने से होने वाले 5 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar
visit

अलग-अलग देशों में विभिन्न खाने की आदतों का पालन करने के बावजूद, विश्व स्तर पर आहार में ब्रेड (White Bread) की स्वीकृति काफी हद तक आम है। ब्रेड मैदे (Wheat Flour) से बानी हुई होती है। इसने विशेष रूप से नाश्ते और स्नैक्स में एक प्रमुख स्थान हासिल कर लिया है, इस तथ्य के बावजूद कि ब्रेड में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होती है। उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स और ग्लूटेन सामग्री के साथ इन आवश्यक फाइबर और विटामिन की कमी ब्रेड को स्वास्थ्य के लिए जोखिम भरा भोजन बनाती है। इसी कारण इसके अनेक नुकसान भी है। आइए आगे पढ़ें:-

ब्रेड खाने से होने वाले 5 नुकसान : Side Effects Of Eating Bread In Hindi

1. हाई ब्लड शुगर (High Blood Sugar)

ब्रेड खाने के प्रमुख नुकसानों में से एक इसका उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स है जिसके कारण आपका रक्त शर्करा (High blood sugar) का स्तर बढ़ जाता है क्योंकि आपका शरीर अधिक गति से कार्बोहाइड्रेट को अवशोषित करना शुरू कर देता है। ब्रेड में एमाइलोपेक्टिन ए होता है जो आपके शरीर को सेकंड के भीतर चीनी सामग्री को पचाने और अवशोषित करने के लिए प्रेरित करता है। ऐसे खाद्य पदार्थों के बार-बार सेवन से आपको मधुमेह, गुर्दे की पथरी और यहां तक कि हृदय रोग होने का खतरा हो सकता है।

2. अपर्याप्त ऊर्जा उत्पादन का कारण बनता है (Causes Inadequate Energy Production)

ब्रेड में विटामिन B की कमी होती है जो आपके शरीर की कोशिकाओं को कार्ब्स को आवश्यक ऊर्जा में बदलने से रोकता है। चूंकि कार्बोहाइड्रेट शरीर को 75 प्रतिशत ऊर्जा प्रदान करते हैं, विटामिन B की कमी आपके मस्तिष्क और अन्य आंतरिक अंगों के कामकाज को प्रभावित कर सकती है। कम ऊर्जा उत्पादन के कारण आप सुस्ती महसूस करने लग सकते हैं।

3. खराब कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है (Increases Bad Cholesterol)

विटामिन E और फाइबर जो शायद ही ब्रेड में मौजूद होते हैं, LDL या कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन को कम करने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं जिन्हें लोकप्रिय रूप से खराब कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है। यह खराब कोलेस्ट्रॉल ऑक्सीकरण प्रक्रिया को उत्तेजित करता है जिसके परिणामस्वरूप मुक्त कण रक्त में बस जाते हैं और रक्त वाहिकाओं में फैट की परतें बनाते हैं, इस प्रकार रक्त के प्रवाह को प्रतिबंधित करते हैं। धीरे-धीरे प्लाक जैसी फैट बनने से हृदय रोग होने लगते हैं। डिएटरी फाइबर रक्त प्रवाह में खराब कोलेस्ट्रॉल की गति को रोकता है और मल में समाप्त होने के लिए इसे बांधता है। दूसरी ओर विटामिन E रक्त से मुक्त कणों को बाहर निकालता है।

4. कब्ज (Constipation)

सफेद ब्रेड चोकर से रहित होता है, इसलिए इसमें फाइबर की कमी होती है जो भोजन के धीमे पाचन को उत्तेजित करता है। इसलिए ब्रेड के नियमित सेवन से कब्ज की समस्या हो सकती है। आहार फाइबर भोजन की पाचन प्रक्रिया को नरम, बाध्यकारी और सुधारने के लिए महत्वपूर्ण है और आंतों में भोजन की धीमी गति बड़ी आंतों या कोलन को शेष सभी नमी को अवशोषित करने के लिए प्रेरित कर सकती है। इससे पेट में दर्द के बाद शुष्क और सख्त मल आता हैं।

5. मोटापा (Obesity)

ब्रेड में डायटरी फाइबर की कमी से कब्ज होता है और बार-बार सेवन करने से आपका मेटाबॉलिक रेट कम हो सकता है। इससे आपके शरीर में प्रोटीन और फैट जमा होने लगता है। साथ ही कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा के बजाय चीनी में तेजी से परिवर्तित होते हैं, जिससे वजन में वृद्धि होती है। अध्ययनों में पाया गया है कि सफेद ब्रेड का लंबे समय तक सेवन मोटापे का एक संभावित कारण हो सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now