Create
Notifications

प्रेगनेंसी में करें आम का सेवन, मिलेंगे अनेक फायदे : Pregnancy me kare aam ka sevan, milenge anek fayde

प्रेगनेंसी में करें आम का सेवन, मिलेंगे अनेक फायदे ( फोटो- Sportskeeda hindi)
प्रेगनेंसी में करें आम का सेवन, मिलेंगे अनेक फायदे ( फोटो- Sportskeeda hindi)
Shilki

प्रेगनेंसी (Pregnancy) में महिलाओं को अपना खाने-पीने का ध्यान रखना बहुत जरूरी हो जाता है। उन्हें हमेशा इस उलझन का सामना करना पड़ता है कि वे क्या खाएं और क्या न खाएं। इसी में से एक है आम। फलों का राजा कहलाने वाला आम (Mango) सभी को खाना पसंद होता है, लेकिन अक्सर प्रेगनेंट महिलाएं इस कशमकश में रहती हैं कि वह प्रेगनेंसी में आम का सेवन करें या न करें। आम में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जिसके खाने से प्रेगनेंसी में बहुत लाभ मिलता है। आम में विटामिन ए (Vitamin A), विटामिन बी6 (Vitamin B6) और विटामिन सी (Vitamin C) पाया जाता है जो प्रेगनेंसी के दौरान जरुरी पोषक तत्व प्रदान करते हैं। आम में फोलिक एसिड (Folic acid), पोटाशियम और आयरन (Iron) की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।

प्रेगनेंसी में आम के सेवन के फायदे

प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या बहुत अधिक हो जाती है जिसके चलते महिलाओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, इसलिए इस समय आम का सेवन करना चाहिए, क्योंकि आम में फाइबर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है, जो प्रेगनेंट महिलाओं को कब्ज (Constipation) होने से बचाती है।

प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड की आवश्यकता बहुत अधिक होती है, और आम में भी फोलिक एसिड (Folic Acid) की प्रचुर मात्रा पाई जाती है, इसलिए गर्भवती महिलाओं को आम का सेवन जरूर करना चाहिए, जिससे भ्रूण के विकास में मदद मिलती है। पहले 3 महीने में आम भ्रूण के तंत्रिका तंत्र के विकार में मदद करता है।

प्रेगनेंट महिलाओं को हर दिन एक आम का सेवन जरूर करना चाहिए, क्योंकि आम खाने से लाल रक्त कोशिकाएं (Red blood cell) बढ़ती हैं जिससे एनीमिया (Anemia) का खतरा बहुत हद तक कम हो जाता है।

अक्सर देखा गया है कि कई महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान मितली (Nausea) की समस्या होती है जिसके चलते उनका खाना पीना बहुत मुश्किल हो जाता है, इसलिए जिन भी प्रेगनेंट महिला को यह परेशानी होती है, उन्हें आम का सेवन करना चाहिए। आम खाने से मितली की समस्या से राहत मिलती है।

कभी-कभी कुछ महिलाओं के नौ महीने पूरे होने से पहले ही बच्चा जन्म ले लेता है, जो मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक साबित होता है, इससे बचने के लिए आम का सेवन करना चाहिए। जिससे नौ महीने से पहले प्रसव से सुरक्षा मिलती है, इससे शिशु के दांत और हड्डियों (Bone) का भी विकास होता है और हाई ब्‍लड प्रेशर एवं प्रीक्‍लैंप्‍सिया (Pre-eclampsia) का खतरा भी कम रहता है।

गर्भावस्था‍ में किस तरह से खाएं आम

आम यदि प्राकृतिक रूप से पका हुआ हो, तो खाने में कोई गंभीर नुकसान नहीं होता है लेकिन अगर आम को रसायनिक रूप से पकाया जाता है, तो उसमें कैल्शियम कार्बाइड (Calcium carbide) हो सकता है जिससे मां और शिशु दोनों को नुकसान पहुंच सकता है। इससे मां को दस्‍त, मूड बदलना (Mood swings), सिर चकराना, सिरदर्द (Headache), नींद की कमी और हाथ-पैरों में झनझनाहट महसूस हो सकती है। इसलिए आम खाने के पहले उसे अच्छी तरह से जांच-परख कर सेवन करें।

गर्भावस्था में महिलाओं को दिन में एक ही आम खाना चाहिए, या फिर अपने डॉक्टर से पूछ कर इसका सेवन करना चाहिए, क्योंकि अधिक आम खाने से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

नको


Edited by Shilki

Comments

Fetching more content...