Create

दांत में कीड़े लगने पर अपनाएं ये 5 घरेलू उपचार

दांत में कीड़े लगने पर अपनाएं ये 5 घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
दांत में कीड़े लगने पर अपनाएं ये 5 घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

दांतों में दर्द (toothache) कई कारणों से हो सकता है जैसे कि दांतों की सड़न, भोजन से मसूड़े में जलन, टूटा हुआ दांत, चबाने पर दर्द, नया दांत निकालना या एक टूटे हुए दांत की वजह से। हालांकि ये सभी संभावनाएं हैं, जिसकी वजह से लोगों को दांत दर्द का अनुभव होता है। नीचे कुछ उपाय दिए गए हैं जो आपके मुंह में सूजन को शांत करके, हानिकारक जीवाणुओं को मारकर या छोटी-छोटी समस्याओं के लिए सुन्न करने वाले एजेंट के रूप में काम करते हैं। आइये इन्हें विस्तार से जानें।

दांत में कीड़े लगने पर अपनाएं ये 5 घरेलू उपचार - Dant Mein Kide Lagne Par Apnayein Ye Gharelu Upchar In Hindi

1. शहद और गर्म पानी (Honey and hot water)

शहद एक जीवाणुरोधी (antibacterial) एजेंट है, और इसका उपयोग घाव प्रबंधन के लिए किया जा सकता है। शहद उपचार में तेजी लाने और दर्द और सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। संवेदनशील दांतों के दर्द को कम करने के लिए गर्म पानी और 1 चम्मच शहद से कुल्ला करें।

2. तिल का तेल (Sesame oil)

संवेदनशील कीड़े लगे दांतों के मामले में तिल के तेल का उपयोग तत्काल राहत के लिए किया जा सकता है। ऑयल पुलिंग थेरेपी मसूड़ों और दांतों को मजबूत करने के लिए पारंपरिक भारतीय लोक उपचार के रूप में एक वैकल्पिक चिकित्सा प्रक्रिया है। इसमें मौखिक स्वच्छता बनाए रखने के लिए मुंह में खाद्य तेल को घुमाना (चारों ओर) शामिल है। तिल के तेल का इस्तेमाल ऑयल पुलिंग थेरेपी में किया जा सकता है।

3. लौंग का तेल (Clove oil)

लौंग में वाष्पशील (volatile) तेल और टैनिन (tannins) जैसे जैव सक्रिय घटक होते हैं। इन जैव सक्रिय रसायनों में एंटी-इंफ्लेमेटरी और जीवाणुरोधी गतिविधियों जैसे लाभकारी गुण हो सकते हैं। लौंग में मौजूद वाष्पशील तेल संवेदनशील दांतों (dentine) के लिए एनाल्जेसिक (pain killer) के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

4. वेनिला अर्क (Vanilla extract)

वेनिला अर्क में एंटीसेप्टिक और दर्द निवारक गुण होते हैं। इसका उपयोग शिशुओं के दर्द और परेशानी का इलाज करने के लिए किया जाता है जब उनके दांत निकलते हैं। संवेदनशील दांतों का इलाज करने के लिए, रुई पर वेनिला एक्सट्रेक्ट डालें। कॉटन बॉल को कुछ मिनट के लिए अपने मसूड़ों पर लगाएं और इस प्रक्रिया को जितनी बार जरूरत हो दोहराएं।

5. पेपरमिंट ऑयल (Peppermint oil)

पेपरमिंट में मेन्थॉल नामक बायोएक्टिव वाष्पशील (bioactive volatile) तेल होता है। इस एसेंशियल ऑयल में जीवाणुरोधी के साथ-साथ एक एंटी-फंगल गतिविधि भी हो सकती है जो दंत प्लाक में बनने वाले बैक्टीरिया के विकास को सीमित करने में मदद कर सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...