Create

रात को खाली पेट सोने के 6 नुकसान- Raat Ko Khali Pet Sone Ke Nuksan

रात को खाली पेट सोने के नुकसान(फोटो-Sportskeeda hindi)
रात को खाली पेट सोने के नुकसान(फोटो-Sportskeeda hindi)
Rakshita Srivastava

आजकल की दौड़भाग वाली जिंदगी में लोग अपने खान-पान का खास ध्यान नहीं रख पाते हैं, कई बार तो लोग देर रात घर आते हैं और बिना कुछ खाएं ही सो जाते हैं या फिर कई लोग वजन कम करने के चक्कर में रात में खाली पेट सो जाते (sleeping empty stomach) हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं रात में खाली पेट नहीं सोना चाहिए, जी हां क्योंकि रात में खाली पेट सोना सेहत के लिए हानिकारक साबित होता है। रात में खाली पेट सोने से आप कई बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। लेकिन हां रात में हेवी मील नहीं लेना चाहिए, लेकिन खाली पेट भी नहीं सोना चाहिए, तो आइए जानते हैं रात को खाली पेट सोने के क्या-क्या नुकसान होते हैं।

रात को खाली पेट सोने के 6 नुकसान

1- रात में बिना कुछ खाएं सोने से शरीर में एनर्जी (Energy) की कमी हो सकती है। जिसकी वजह से आपको दिनभर कमजोरी और थकान महसूस हो सकती है। इसलिए रात में हल्का भोजन कर के ही सोना चाहिए।

2- रात में खाली पेट सोने से नींद न आने की समस्या हो सकती है। क्योंकि भूख के चलते सही तरह के नींद नहीं आती है और नींद पूरी न होने की वजह से चिड़चिड़ापन और मूड खराब जैसी समस्या हो सकती है।

3- कई लोग सोचते हैं कि रात में खाना न खाने से खाली पेट सोने से वजन (Weight) कम होता है। लेकिन अगर आप रात में खाली पेट सोते हैं, तो इससे मेटाबॉलिज्म खराब होता है, जिसकी वजह से वजन तेजी से बढ़ने लगता है।

4- रात में खाली पेट सोने से शरीर को जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। जिसकी वजह से इम्यूनिटी (Immunity) कमजोर होने लगती है और इम्यूनिटी कमजोर होने की वजह से आपका शरीर वायरस और बैक्टीरिया की चपेट में आसानी से आ सकता है।

5- रात में खाली पेट सोने से मांसपेशियों (Muscles) पर भी बुरा असर पड़ता है। क्योंकि रात में खाली पेट सोने से प्रोटीन और अमीनो एसिड के काम करने की क्षमता प्रभावित हो जाती है, जिसकी वजह से मांसपेशियां कमजोर होने लगती है। मांसपेशियां कमजोर होने की वजह से मांसपेशियों में दर्द की शिकायत भी हो सकती है।

6- रात में खाली पेट सोने की वजह से मेटाबॉलिज्म खराब हो जाता है, जिसकी वजह से कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बढ़ने की समस्या भी देखी जा सकती है। जिससे हार्ट संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Rakshita Srivastava

Comments

Fetching more content...