क्या जबरन विवाह होने पर पड़ता है, आपके मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव?

Do forced marriages have negative effects on your mental health?
क्या जबरन विवाह होने पर पड़ता है आपके मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव?

जबरन विवाह लिंग आधारित हिंसा का एक रूप है जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करता है। ऐसा तब होता है जब इसमें शामिल एक या दोनों पक्ष उनकी स्वतंत्र और पूर्ण सहमति के बिना शादी कर लेते हैं।

जबरन विवाह के मानसिक स्वास्थ्य पर विनाशकारी परिणाम होते हैं, जिससे व्यक्ति की भलाई, आत्मसम्मान और पहचान की भावना प्रभावित होती है।

आज हम इस लेख के माध्सेयम से, मानसिक स्वास्थ्य पर जबरन विवाह के नकारात्मक प्रभावों का पता लगाएंगे।

शक्तिहीनता और नियंत्रण खोना

जब किसी को शादी के लिए मजबूर किया जाता है, तो वह अपने भविष्य के बारे में निर्णय लेने की क्षमता खो देता है। वे शक्तिहीन और फंसा हुआ महसूस कर सकते हैं, जिससे अवसाद, चिंता और अन्य मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

शक्तिहीनता और नियंत्रण खोना!
शक्तिहीनता और नियंत्रण खोना!

शक्तिहीनता और नियंत्रण खोने की यह भावना विशेष रूप से युवा लोगों के लिए विनाशकारी हो सकती है, जिन्हें अक्सर कम उम्र में उनके परिवारों द्वारा शादी के लिए मजबूर किया जाता है।

तनाव और चिंता की वृधि

जबरन शादी भी काफी हद तक तनाव और चिंता का कारण बन सकती है, खासकर उन लोगों के लिए जिन्हें किसी ऐसे व्यक्ति से शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है जिसे वे नहीं जानते या प्यार नहीं करते।

सांस्कृतिक या धार्मिक अपेक्षाओं के अनुरूप दबाव भारी पड़ सकता है, खासकर अगर व्यक्ति शादी के लिए तैयार महसूस नहीं करता है। यह तनाव चिंता के लक्षणों को जन्म दे सकता है, जिसमें रेसिंग विचार, अनिद्रा और पैनिक अटैक शामिल हैं।

अवसाद के लक्षण पैदा होना

चिंता के अलावा, जबरन विवाह भी अवसाद के लक्षण पैदा कर सकता है। जिन व्यक्तियों को शादी के लिए मजबूर किया जाता है, वे अलग-थलग और अकेला महसूस कर सकते हैं, क्योंकि उनके पास मुड़ने के लिए कोई सपोर्ट सिस्टम नहीं हो सकता है। वे अपनी स्थिति के बारे में निराश भी हो सकते हैं, यह मानते हुए कि कोई रास्ता नहीं है। इससे उदासी, निराशा और उन गतिविधियों में रुचि की कमी हो सकती है जिनका वे आनंद लेते थे।

जबरन शादी आघात का कारण

youtube-cover

जबरन शादी आघात का कारण बन सकती है, खासकर अगर व्यक्ति शारीरिक, भावनात्मक या यौन शोषण का अनुभव करता है। जबरन शादी के शिकार अपने पति या पत्नी या परिवार के सदस्यों के हाथों हिंसा का अनुभव कर सकते हैं, और फंसे हुए महसूस कर सकते हैं और दुर्व्यवहार से बचने में असमर्थ हो सकते हैं। यह आघात पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) के लक्षणों को जन्म दे सकता है, जिसमें फ्लैशबैक, बुरे सपने और वास्तविकता से अलग होने की भावना शामिल है।

अलगाव और अकेलेपन की भावना की उत्पत्ति

जब किसी को शादी के लिए मजबूर किया जाता है, तो उन्हें ऐसा लग सकता है कि उन्होंने अपना एक हिस्सा खो दिया है। वे शर्म और ग्लानि की भावनाओं से संघर्ष कर सकते हैं, और भविष्य में स्वस्थ संबंध बनाने में कठिनाई महसूस कर सकते हैं। इससे अलगाव और अकेलेपन की भावना पैदा हो सकती है और मानसिक स्वास्थ्य पर स्थायी प्रभाव पड़ सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now