सर्दियों में च्यवनप्राश खाना ना भूलें, जानिए इसके 5 स्वास्थ्य लाभ

सर्दियों में च्यवनप्राश खाना ना भूलें, जानिए इसके 5 स्वास्थ्य लाभ (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
सर्दियों में च्यवनप्राश खाना ना भूलें, जानिए इसके 5 स्वास्थ्य लाभ (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

च्यवनप्राश (Chyawanprash) लंबे समय से कई परिवारों का हिस्सा रहा है। यदि आप 90 के दशक या 2000 के दशक के दौरान या उससे पहले एक भारतीय घर में पले-बढ़े हैं, तो आप स्वाद, बनावट और लाभों को जान सकते हैं। 41 से अधिक आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का आयुर्वेदिक सूत्रीकरण जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में सहायता करते हैं, जिससे बैक्टीरिया, वायरस, धूल और मौसम परिवर्तन के कारण होने वाले खांसी और सर्दी आदि जैसे रोज़मर्रा के संक्रमण से शरीर की रक्षा होती है।

स्वास्थ्य पूरक के रूप में, च्यवनप्राश सर्वोच्च स्वास्थ्य लाभ के लिए सभी आयु वर्ग के लोगों- बच्चों, वयस्कों और बुजुर्गों द्वारा समान रूप से लिया जा सकता है। विटामिन C और एंटीऑक्सीडेंट के सिद्ध और समृद्ध स्रोत के रूप में, च्यवनप्राश कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। इस लेख के माध्यम से हम सर्दियों में च्यवनप्राश खाने के फायदे बताने जा रहे हैं।

youtube-cover

सर्दियों में च्यवनप्राश खाना ना भूलें, जानिए इसके 5 स्वास्थ्य लाभ (Do Not Forget To Eat Chyawanprash In Winter, Know Its 5 Health Benefits In Hindi)

1. प्रतिरक्षा में सुधार करे (Improves Immunity)

जबकि प्रतिरक्षा शक्ति हमेशा अच्छे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण रही है, कोविड ने इसके महत्व को फिर से उजागर किया है। जब दुनिया भर में सैकड़ों और हजारों परिवार अपनी प्रतिरक्षा को मजबूत करने के तरीकों की तलाश कर रहे थे, च्यवनप्राश जैसे आयुर्वेदिक उत्पादों ने एक स्वस्थ और मजबूत शरीर और दिमाग का रास्ता दिखाया।

2. सहनशक्ति बढ़ा देता है (Boosts Stamina)

जीवनशैली के विकल्प, जैसे धूम्रपान या शारीरिक गतिविधि की कमी, हमारी सहनशक्ति को महत्वपूर्ण रूप से कम कर सकते हैं। यह हमारे व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन को कई तरह से प्रभावित करना शुरू कर सकता है। इसके अलावा, जब आपकी सहनशक्ति कम होती है तो दैनिक शारीरिक गतिविधियाँ जैसे सीढ़ियाँ चढ़ना बेहद थका देने वाला हो सकता है।

3. श्वसन संबंधी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है (Helps Fight Respiratory Issues)

इस प्राचीन सूत्रीकरण में मौजूद जड़ी-बूटियां लोगों को दीर्घकालिक और पुरानी श्वसन संबंधी बीमारियों से निपटने में मदद कर सकती हैं। यह दमा, खांसी और सांस के संक्रमण से राहत दिलाता है। च्यवनप्राश फेफड़ों की कार्यक्षमता में सुधार करने में भी मदद कर सकता है। यह शरीर को संक्रमण से बचाता है और स्पष्ट श्वसन मार्गों का समर्थन करता है।

4. याददाश्त तेज करता है और ब्रेन फंक्शन में मदद करता है (Sharpens Memory And Aids Brain Function)

च्यवनप्राश में एंटी-एमनेसिक गतिविधि होती है और यह भूलने की बीमारी के इलाज में मदद कर सकता है। एक चूहों के अध्ययन में, च्यवनप्राश का दैनिक सेवन चूहों को स्मृति हानि से बचा सकता है। च्यवनप्राश के एंटीऑक्सीडेंट गुण अल्जाइमर रोग वाले लोगों पर भी लाभकारी प्रभाव डाल सकते हैं।

5. हृदय स्वास्थ्य में सुधार करे (Improves Heart Health)

च्यवनप्राश रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में भी मदद कर सकता है। च्यवनप्राश में मौजूद आंवला में महत्वपूर्ण कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले प्रभाव भी हो सकते हैं। इसके अलावा, च्यवनप्राश में तिल के तेल में एंटीऑक्सिडेंट और हाइपोकोलेस्टेरोलेमिक (कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने वाला तंत्र) गुण होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं। च्यवनप्राश के कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले गुण हृदय स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now