Create

पीरियड्स पेन से बचने के लिए करें ये बेहतरीन योगासन- Periods pain se bachane ke liye kare ye yogasan

पीरियड्स पेन से बचने के लिए करें ये बेहतरीन योगासन
पीरियड्स पेन से बचने के लिए करें ये बेहतरीन योगासन

महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द और ऐंठन होना आम समस्या है। इस दौरान पेट के साथ ही कम और पिंडली में भी बहुत तेज दर्द, बदन दर्द, सून और मूड स्विंग्स की समस्या होती है। इस दौरान इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए महिलाएं दवाइयों का सहारा लेती हैं। लेकिन इस असहनीय दर्द से छुटकारा पाने के लिए योग का सहारा ले सकती हैं।

पीरियड्स पेन से बचने के लिए करें ये बेहतरीन योगासन- Periods pain se bachane ke liye kare ye yogasan in hindi

बद्धकोणासन या तितली आसन- (butterfly pose in Menstrual Pain)

पीरियड्स के दौरान शरीर के निचले हिस्से में दर्द रहता है। ऐसे में पेट भारी और फूला हुआ महसूस होता है। ऐसे में बद्धकोणासन या तितली आसन करने से काफी आराम मिलता है। यह वजाइना क्षेत्र को खोलने और आपके पेट के अंगों, अंडाशय और मूत्राशय को उत्तेजित करने के साथ आपके पीरियड्स प्रॉब्लम को भी दूर करने में मदद करता है।

उपविष्ठ कोणासन (Benefits of Upavistha for Menstrual Pain)

उपविष्ठ कोणासन करने से पीरियड के दौरान होने वाले ऐंठन को कम करने में मदद मिलता है जिससे आपके पेट के अंगों को उत्तेजित करने में मदद करता है। इस आसन से तनाव भी दूर होता है।

बालासन (Balasana or child’s pose for Menstrual Pain)

मासिक धर्म के दर्द को दूर करने के लिए बालासन को सबसे अच्छा और आसान आसन माना जाता है। इससे आपकी पीठ की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है।

मार्जरी आसन या कैट पोज (Cat Pose for Menstrual Pain)

कैट पोज के जरिए भी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द और ऐंठन को दूर किया जा सकता है। इस पोज को करते वक्त आपका शरीर बिल्कुल बिल्ली के समान लगता है इसलिए, इसे कैट पोज कहा जाता है। कहा जाता है कि इस आसन का ज्यादा लाभ लेना है तो पीरियड आने के कुछ दिन पहले ही शुरू कर देना चाहिए।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Ritu Raj
Be the first one to comment