Create

रोज खाते हैं ड्राई फ्रूट्स, तो जाने इससे होने वाले फायदे और नुकसान

रोज खाते हैं ड्राई फ्रूट्स, तो जाने इससे होने वाले फायदे और नुकसान(फोटो-Sportskeeda hindi)
रोज खाते हैं ड्राई फ्रूट्स, तो जाने इससे होने वाले फायदे और नुकसान(फोटो-Sportskeeda hindi)

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन कुछ मात्रा में ड्राई फ्रूट्स (Dry Fruits) यानी सूखे मेवों का सेवन करना चाहिए। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, ड्राई फ्रूट्स का रोजाना सेवन करने से शरीर में एनर्जी बनी रहती है, इम्यूनिटी मजबूत होती है, साथ ही कई और स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी दूर होती है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। साथ ही ड्राई फ्रूट्स में कई तरह के विटामिंस, खनिज पाए जाते हैं, जो शरीर को स्वस्थ रखने में मददगार साबित होते हैं। लेकिन ड्राई फ्रूट्स का अधिक सेवन स्वास्थ्य को नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसलिए ड्राई फ्रूट्स का सीमित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए। तो आइए जानते हैं ड्राई फ्रूट्स के क्या-क्या फायदे और नुकसान होते हैं।

youtube-cover

रोज खाते हैं ड्राई फ्रूट्स, तो जाने इससे होने वाले फायदे और नुकसान-Benefits And Side Effects Of Dry Fruits In Hindi

ड्राई फ्रूट्स के उपयोग

1- कई तरह के ड्राई फ्रूट्स को मिक्स कर के खाया जा सकता है।

2- ड्राई फ्रूट्स का उपयोग कई मिठाइयों को बनाने के लिए किया जाता है।

3- ड्राई फ्रूट्स का उपयोग हलवा और खीर जैसी चीजों को बनाने के लिए किया जाता है।

4- मिल्क शेक बनाने के लिए ड्राई फ्रूट्स का इस्तेमाल किया जाता है।

ड्राई फ्रूटस के नाम

- बादाम

- किशमिश

- पिस्ता

- छुहारा

- खजूर

- अखरोट

- मखाना

- मूंगफली

- अंजीर

- मुनक्का

- काजू

ड्राई फ्रूट्स के फायदे

1- ड्राई फ्रूट्स का सेवन करने से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन (Blood Circulation) सही रहता है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स में पॉलीफेनोल एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है, जो रक्त के प्रवाह में सुधार करने में मदद करता है।

2- हृदय (Heart) को स्वस्थ रखने के लिए ड्राई फ्रूट्स का सेवन लाभकारी साबित होता है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स शक्तिशाली एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो हृदय को स्वस्थ रखने में और हृदय संबंधी बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

3- ड्राई फ्रूट्स का सेवन गर्भावस्था (Pregnancy) के दौरान भी काफी फायदेमंद माना जाता है। क्योंकि किशमिश, मुनक्का में आयरन पाया जाता है, जो गर्भावस्था के दौरान शरीर में आयरन की कमी नहीं होने देता है। साथ ही इसके सेवन से मां और शिशु स्वस्थ भी रहते हैं।

4- शरीर में बढ़ते कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) को कम करने के लिए ड्राई फ्रूट्स का सेवन लाभकारी साबित होता है। क्योंकि इसमें एंटी ऑक्सीडेंट और फाइबर पाया जाता है, इसलिए अगर आप अखरोट, बादाम जैसे ड्राई फ्रूट्स का सेवन करते हैं, तो इससे कोलेस्ट्रॉल कम होता है।

5- अगर आप अपना वजन (Weight) कम करना चाहते हैं, तो आपको ड्राई फ्रूट्स का सेवन करना चाहिए। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स फाइबर से भरपूर होते हैं और फाइबर भूख को शांत रखकर वजन को कम करने में मददगार साबित होता है।

6- पाचन (Digestion) से जुड़ी समस्या होने पर ड्राई फ्रूट्स का सेवन लाभकारी साबित होता है। क्योंकि इसमें फाइबर पाया जाता है, जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और कब्ज जैसी समस्याओं को दूर करने में मददगार साबित होता है।

7- दिमागी क्षमता को बढ़ाने के लिए ड्राई फ्रूट्स का सेवन फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है। जो याददाश्त (Memory) को तेज करने में मदद करता है।

8- ड्राई फ्रूट्स एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है, इसलिए अगर आप ड्राई फ्रूट्स का सेवन करते हैं, तो इससे इम्यूनिटी (Immunity) मजबूत होती है। जिससे आप वायरस और बैक्टीरिया की चपेट में आने से बच सकते हैं।

9- कैंसर (Cancer) जैसी घातक बीमारी के खतरे को कम करने के लिए ड्राई फ्रूट्स का सेवन फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि इसमें एंटी कैंसर गुण पाए जाते हैं, जो कैंसर के सेल्स को बढ़ने से रोकने में मदद करते हैं।

10- ड्राई फ्रूट्स का सेवन करने से हड्डियां (Bones) मजबूत होती है। साथ ही हड्डियों से जुड़ी बीमारियों का खतरा भी कम होता है। क्योंकि इसमें कैल्शियम पाया जाता है, जो हड्डियों की मजबूती के लिए बहुत जरूरी होते हैं।

ड्राई फ्रूट्स के नुकसान

1- ड्राई फ्रूट्स का अधिक सेवन करने से दस्त और गैस की शिकायत हो सकती है।

2- ड्राई फ्रूट्स का अधिक मात्रा में सेवन करने से वजन बढ़ सकता है।

3- ड्राई फ्रूट्स से एलर्जी (Allergy) होने पर इसका सेवन करने से बचना चाहिए।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Rakshita Srivastava
Be the first one to comment